ज्यादा कमाना है तो ब्रेस्टफीडिंग जरूर कराना, 50 की उम्र में 10 प्रतिशत तक बढ़ सकती है सैलरी

86 0

लंदन। जो महिलाएं बच्चों को ब्रेस्टफीडिंग करवाती हैं वो 50 की उम्र होने तक दूसरी महिलाओं के मुकाबले 10 प्रतिशत ज्यादा कमाती हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि ब्रेस्टफीडिंग करवाने से दिमाग का ज्यादा विकास होता है और बीमार होने की संभावना कम हो जाती है।

ऐसे की स्टडी
ब्रिटेन की क्वीन्स यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने 1958 के राष्ट्रीय बाल विकास अध्ययन से आंकड़ों का विश्लेषण किया, जिसने जन्म के बाद प्रतिभागियों को ट्रैक किया गया। रिसर्चर्स ने पाया कि जिन महिलाओं ने अपने बच्चों को स्तनपान करवाया था वो 50 की उम्र में 68 हजार कमा रही थीं, जिन महिलाओं ने स्तनपान नहीं करावाया था उनकी मासिक आय 56 हजार थी।

ये आया सामने
रिसर्चर्स ने बताया कि अमेरिका और ब्रिटेन में महिलाएं सबसे कम ब्रेस्फीडिंग करवाती हैं। अमेरिका में ज्यादातर महिलाएं बच्चे के जन्म के बाद बहुत कम समय में ही ब्रेस्टफीडिंग करवाना छोड़ देती हैं। ब्रिटेन की बात की जाए तो सिर्फ 34 प्रतिशत बच्चे ही 6 महीने तक स्तनपान कर पाते हैं। अमेरिका में 49 प्रतिशत बच्चे, जर्मनी में 50 प्रतिशत और स्विट्जरलैंड में 62 प्रतिशत बच्चे 6 महीने तक स्तनपान कर पाते हैं।

रिसर्चर्स की राय
रिसर्चर्स का कहना है कि अगर पब्लिक प्रोग्राम पर ज्यादा खर्च किया जाए तो ब्रेस्फीडिंग को बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि अगर ज्यादा बच्चों को स्तनपान करावा जाएगा तो इससे मां और बच्चे दोनों को खूब फायदा होगा। दोनों के सीखने, सोचने की क्षमता बढ़ेगी और हेल्थ भी ठीक रहेगी।

Related Post

‘पद्मावत’ के विरोध में अहमदाबाद के मॉल में तोड़फोड़, 40 गाड़ियां फूंकीं

Posted by - January 24, 2018 0
बेकाबू भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को करनी पड़ी फायरिंग अहमदाबाद। संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मवात’ के…

वित्तीय अनियमितता में फंसीं मॉरीशस की राष्ट्रपति, जल्द देंगी इस्तीफा

Posted by - March 10, 2018 0
एनजीओ द्वारा जारी किए गए क्रेडिट कार्ड से इटली और दुबई में अपने लिये की थी खरीदारी पोर्ट लुईस। वित्‍तीय अनियमितताओं…

दिल्ली समेत उत्तर भारत के ज्यादातर शहरों में जबरदस्त प्रदूषण, सांस लेना दुश्वार

Posted by - November 12, 2018 0
नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली समेत उत्तर भारत के ज्यादातर शहरों में प्रदूषण का स्तर खराब और बहुत खराब…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *