हड्डियों को मजबूत बनाता है विटामिन-डी ? हकीकत जानने के लिए इसे पढ़िए

41 0

लंदन। आमतौर पर हड्डियों की मजबूती के लिए विटामिन-डी को जरूरी माना जाता है। इसका सबसे अच्छा स्रोत सूरज की रोशनी है। हर रोज शरीर पर दस मिनट सूरज की रोशनी से विटामिन-डी की कमी नहीं होती, लेकिन ताजा रिसर्च के मुताबिक हड्डियों की मजबूती और विटामिन-डी का कोई रिश्ता नहीं है।

 

लैंसेट डायबिटीज एंड एंडोक्रिनोलॉजी जर्नल में छपी रिसर्च का कहना है कि विटामिन-डी की कमी होने पर डॉक्टर इसके लिए अलग से सप्लीमेंट देते हैं, लेकिन इस सप्लीमेंट से हड्डियां बिल्कुल मजबूत नहीं होतीं। बता दें कि अब तक डॉक्टर लोगों को सलाह देते रहे हैं कि जाड़े में वो विटामिन-डी का सप्लीमेंट लें। क्योंकि उस दौरान शरीर का ज्यादातर हिस्सा छिपा रहता है और धूप से ये विटामिन नहीं हासिल हो पाता।

 

ताजा रिसर्च में पहले हुई 81 रिसर्च के आंकड़ों को जुटाया गया है। रिसर्च कहती है कि विटामिन-डी का सप्लीमेंट लेने से सिर्फ रिकेट्स और ऑस्टियोमेलेशिया नाम की हड्डियों की बीमारी को ही रोका जा सकता है। न्यूजीलैंड की ऑकलैंड यूनिवर्सिटी के रिसर्च करने वालों के प्रमुख डॉ. मार्क बोलैंड का कहना है कि विटामिन-डी का हड्डियों को टूटने से बचाने में कोई भूमिका नहीं है। इससे हड्डियों का घनत्व भी नहीं बढ़ता है। हालांकि, एक्सपर्ट्स इस रिसर्च पर सवाल उठा रहे हैं। उनका कहना है कि रिसर्च करने वालों ने उन लोगों को शामिल नहीं किया, जो हाल ही में इस दवा की गोलियां खाना शुरू कर चुके हैं।

 

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के डॉ. रॉबर्ट क्लार्क का कहना है कि रिसर्च में कम ही लोगों को शामिल किया गया है। उन्हें विटामिन-डी का कम ही सप्लीमेंट दिया गया और तय समयसीमा तक नहीं दिया गया। ऐसे में रिसर्च के नतीजों पर भरोसा नहीं किया जा सकता। क्लार्क का कहना है कि अभी 57 हजार लोगों पर विटामिन-डी सप्लीमेंट संबंधी रिसर्च हो रही है। इसके नतीजे आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

Related Post

MODICARE में गरीबों के इलाज का रेट तय, जानिए किस बीमारी के लिए कितना देगी सरकार

Posted by - May 24, 2018 0
नई दिल्ली। देश के 11 करोड़ गरीब परिवारों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा देने के लिए मोदी सरकार ने कैशलेस मेडिकल…

चीन नहीं भारत है दुनिया का सबसे प्रदूषित देश, वायु प्रदूषण से मौतों का यह आंकड़ा चौंकाने वाला है!

Posted by - December 12, 2018 0
नई दिल्ली। वायु प्रदूषण के मामले में भारत ने चीन को भी पीछे छोड़ दिया है। स्वास्थ्य जर्नल लैंसेट की…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *