महिलाएं रोज खाएं थोड़ी सी एस्प्रिन, डिंबाशय के कैंसर से रहेंगी दूर

87 0

वॉशिंगटन। हाल ही हुई एक स्टडी से पता चला है कि महिलाएं हर रोज अगर एस्प्रिन खाएं, तो उन्हें डिंबाशय का कैंसर होने की आशंका 23 फीसदी कम हो जाती है। बता दें कि डिंबाशय का कैंसर महिलाओं में सबसे खतरनाक माना जाता है। इसके संकेत इतनी देर में मिलते हैं, कि उस वक्त इलाज से महिलाओं की जान बचाना मुश्किल हो जाता है।

अमेरिका के एच. ली मॉटिफ कैंसर सेंटर एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट के मुताबिक जब भी महिलाओं के डिंबाशय में अंडाणु बनते हैं, उस वक्त डिंबाशय में सूजन आती है और लगातार ऐसा होने से कैंसर पनप सकता है। एस्प्रिन से सूजन कम हो जाती है और इससे डिंबाशय का कैंसर होने की आशंका कम हो जाती है। हालांकि, रिसर्च का ये नतीजा भी निकला है कि कम मात्रा में एस्प्रिन खाने से ही डिंबाशय के कैंसर से बचा जा सकता है। अगर इस दवा की मात्रा ज्यादा हो जाए, तो डिंबाशय का कैंसर होने की आशंका बढ़ जाती है।

रिसर्च में देखा गया कि जो महिलाएं कई साल से हर हफ्ते 10 इब्यूप्रोफेन या नेप्रोक्सेन दवा दर्द और सूजन कम करने के लिए खाती रही हैं, उनमें डिंबाशय का कैंसर होने की आशंका ज्यादा हो जाती है। रिसर्च करने वाली टीम में शामिल एसोसिएट शैली वोरोजर के मुताबिक इस बारे में अभी और रिसर्च की जरूरत है, लेकिन महिलाओं को अपने डॉक्टर से एस्प्रिन खाने के बारे में बात करनी चाहिए।

जामा ऑन्कोलॉजी नाम के जर्नल के मुताबिक रिसर्च के लिए 2 लाख महिलाओं से बात की गई। इनमें से 1054 को डिंबाशय का कैंसर हुआ था। महिलाओं में हर रोज 325 मिलीग्राम एस्प्रिन के इस्तेमाल से इस कैंसर के रुकने की बात रिसर्च में सामने आई है।

Related Post

मक्का मस्जिद ब्लास्ट केस में फैसला सुनाने वाले जज रेड्डी ने दिया इस्तीफा

Posted by - April 16, 2018 0
सुबह स्‍वामी असीमानंद सहित सभी 5 आरोपियों को बरी करने का सुनाया था फैसला फैसला सुनाने के कुछ घंटों बाद…

ट्विवटर ने माना, बिना मंजूरी सार्वजनिक की यूजर्स की लोकेशन

Posted by - November 25, 2017 0
ट्विटर ने डोनाल्‍ड ट्रंप और जर्मनी के चांसलर एंजेला मर्केल नाम के 45 फर्जी अकाउंट बंद किए सैन फ्रांसिस्को। माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट…

सर्दी में भी पिघल रहे हैं ग्लेशियर, समुद्री तापमान बढ़ने से कम हो रही पक्षियों की संख्या

Posted by - December 14, 2018 0
नई दिल्ली। ग्लोबल वॉर्मिंग की वजह से पूर्वी अंटार्कटिका में ग्लेशियर पिछल रहे हैं। वैज्ञानिक हैरान हैं कि ऐसा सर्दी…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *