Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

वैज्ञानिकों ने खोजा ऐसा ग्रह, जहां 7 घंटे में इंसान की उम्र हो जाएगी 1251 साल !

149 0

नई दिल्‍ली। अंतरिक्ष के कई ऐसे अनसुलझे रहस्य हैं जिन तक वैज्ञानिक आज भी पहुंच नहीं पाए हैं। हालांकि वैज्ञानिक लगातार नई-नई चीजों की खोज में लगे हैं और समय-समय पर अपनी खोजों से दुनिया को चौंकाते रहते हैं। हाल ही में वैज्ञानिकों ने एक ऐसे अनोखे ग्रह की खोज की है, जहां पर एक साल पृथ्‍वी के 1251 साल के बराबर होता है। शायद आप इस बात पर यकीन नहीं कर पाएंगे, लेकिन यह सच है।

क्‍या है ग्रह की खासियत ?

दरअसल, वैज्ञानिकों ने जिस ग्रह की खोज की है, वहां पर एक साल मात्र 7 घंटे का होता है। ‘केपलर टेलिस्कोप’ ने कड़ी मशक्कत के बाद इस ग्रह की खोज की है। बता दें कि पृथ्वी पर 365 दिन बीतने के बाद एक साल खत्म होता है और एक साल में 8760 घंटे होते हैं। लेकिन इस अनोखे प्लेनेट पर एक साल सिर्फ 7 घंटों में ही खत्‍म हो जाता है। इसे ऐसे समझें कि अगर कोई इंसान पृथ्‍वी के हिसाब से यहां एक साल बाद लौटता है तो इस ग्रह पर 1251 साल बीत चुके होंगे। बता दें कि केपलर ग्रहों की खोज करने वाला एक टेलिस्‍कोप है, जो अबतक लगभग 2300 ग्रहों की खोज कर चुका है।

धरती से 5 गुना बड़ा है यह ग्रह

वैज्ञानिकों का कहना है कि यह दुनिया का सबसे तेज और आधुनिक प्लेनेट है, क्‍योंकि यह सिर्फ 6.7 घंटे में सूर्य की परिक्रमा पूरी कर लेता है। इसका आकार पृथ्‍वी से 5 गुना बड़ा है। हालांकि वैज्ञानिक फिलहाल इस बात की पुष्टि करने में असमर्थ हैं कि 7 घंटों में से एक दिन कितने घंटे का होगा। इसका पता लगाने के लिए पृथ्‍वी के डे-टू-ईयर रेशियो का इस्‍तेमाल किया जा रहा है। हालांकि रिसर्च से यह बात साबित हो गई है कि इस ग्रह पर एक साल कुछ घंटों में ही गुजर जाएगा। वैज्ञानिकों ने इस प्लेनेट का नाम EPIC 246393474B रखा है। फिलहाल वैज्ञानिक इस ग्रह पर शोध कर रहे हैं।

Related Post

कोई हल नहीं निकला तो कानून के जरिए राममंदिर निर्माण का विकल्प है खुला : केशव मौर्य

Posted by - August 20, 2018 0
लखनऊ। 2019 के लोकसभा चुनाव की सरगर्मियों के बीच एक बार फिर राममंदिर निर्माण का मुद्दा फिजां में गूंजने लगा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *