Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

OMG : 8वीं में पढ़ने वाले छात्र का कारनामा सुनकर दांतों तले दबा लेंगे उंगली

181 0

नई दिल्‍ली। कहावत है कि प्रतिभा उम्र की मोहताज नहीं होती। इस बात को एक बार फिर साबित किया है मध्‍य प्रदेश के आदित्य चौबे नामक बालक ने। दरअसल, असाधारण प्रतिभा के धनी आदित्य ने ऐसा कारनामे किए हैं, जिसे सुनकर आप दांतों तले उंगली दबाने को मजबूर होंगे। उसके कारनामे ऐसे हैं जो आजकल इंजीनियर की डिग्री लेने वाले भी न कर सकें।

क्‍या किया कारनामा ?

जबलपुर के जॉय सीनियर सेकेंडरी स्कूल में 8वीं में पढ़ने वाले आदित्य ने इतनी छोटी सी उम्र में ही करीब 82 ऐप बना दिए हैं। आदित्य ने सोशल मुद्दों पर भी ऐप बनाए हैं। सिर्फ 12 साल के आदित्य चौबे ने ऐसे-ऐसे ऐप डेवलप किए हैं जो समाज के लिए काफी उपयोगी साबित हो सकते हैं। आज छोटी सी उम्र में ही आदित्‍य एंड्रायड ऐप डेवलपर बन चुके हैं। महज 9 साल की उम्र से ऐप डेवलप कर रहे आदित्य वर्तमान में ऑनलाइन ‘आदि’ कंपनी के मालिक हैं। यही नहीं, जिस कम्प्यूटर लैंग्वेज को उन्होंने सुना तक नहीं था, आदित्य आजकल उसकी ऑनलाइन ट्यूशन दे रहे हैं।

कैसे की शुरुआत ?

आदित्य ने बताया कि जब वो 9 साल का था, तब लैपटॉप पर खेलते समय नोटपैड प्लस-प्लस का सॉफ्टवेयर डाउनलोड किया। इस पर जब उसने कुछ टाइप करना चाहा तो उसमें एरर आने लगा। इसके बाद सेटिंग में जाकर जब उसने जावा देखा तो जावा लेंग्वेज के बारे में जाना। बस इसी के बाद से आदित्य की जानने की ललक बढ़ गई और उन्होंने ऐप बनाना सीख लिया। एक बार जब आदित्‍य ने अपनी बहन को ‘ग्रैपी बर्ड’ गेम मोबाइल पर खेलते देखा तो उसके लिए इससे भी बेहतर गेम बना दिया। बता दें कि आदित्य के पिता धर्मेन्द्र चौबे मध्‍य प्रदेश के जबलपुर जिले में स्थित ऑर्डिनेंस फैक्टरी खमरिया में जूनियर वर्क्स मैनेजर हैं और मां अमिता एक निजी स्कूल में साइंस टीचर हैं। आदित्‍य की बड़ी बहन 12वीं की छात्रा है।

कौन-कौन से ऐप बनाए ?

आदित्य ने अबतक कई महत्वपूर्ण एप बनाए हैं। आदित्य ने एक कैलकुलेटर बनाया है जो आम कैलकुलेटर से काफी बेहतर है। आम कैलकुलेटर जहां 20 डिजिट के बाद नंबर नहीं लेते, वहीं आदित्य के बनाए कैलकुलेटर में अनलिमिटेड कैलकुलेशन किया जा सकता है। आदित्य ने ‘पैनिक बटन’ की तरह एक ‘कोडरेड बटन’ भी तैयार किया है, ताकि जब भी कोई मुसीबत में हो तो वह कुछ सेलेक्टेड नंबर के साथ अपनी लोकेशन बताकर अपना बचाव कर सके। इसके अलावा आदित्‍य ने ‘लोकेशन लाइट ऐप’, ‘लिसेन ट्यूब ऐप’ और ‘चैट बुक ऐप’ भी बनाए हैं। फिलहाल आदित्‍य के 48 ऐप अभी गूगल प्‍ले स्‍टोर लोड होने के लिए वेरिफिकेशन मोड पर हैं, जो जल्‍दी ही प्‍ले स्‍टोर पर देखे जा सकते हैं।

बड़ी-बड़ी कंपनियों से जुड़े

आदित्य के हुनर को देखते हुए बड़ी-बड़ी कंपनियों के सीईओ की बनाई हुई ऑनलाइन कम्युनिटी ने भी उन्हें अपने से जोड़ लिया है। इन कंपनियों के साथ आदित्‍य अपने आइडिया और स्ट्रैटिजी शेयर करते हैं। स्टीव जॉब्स, जैक मा को आदित्य फॉलो करते हैं, क्योंकि इन्हें उनकी मार्केटिंग स्ट्रैटिजी काफी पसंद है।

Related Post

अयोध्या में भगवान राम की सबसे बड़ी मूर्ति लगाने की तैयारी में योगी आदित्यनाथ

Posted by - October 10, 2017 0
लखनऊ: अयोध्या में रामलला के मंदिर का मसला भले ही सुप्रीम कोर्ट में अटका हो लेकिन विवादित स्थल से थोड़ी ही दूर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *