इस वजह से हफ्ते में तीन दिन ही पीनी चाहिए शराब

32 0

मिसौरी। हम सुनते आए हैं कि हर रोज एक पेग शराब पीना स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है, लेकिन एक नई स्टडी का नतीजा बताता है कि ऐसा करना ठीक नहीं है। ये स्टडी कहती है कि हफ्ते में बस तीन दिन ही शराब पीनी चाहिए।

अमेरिका में मिसौरी के वाशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन ने ये स्टडी की है। स्टडी के मुताबिक रोज शराब पीने से जल्दी मौत की आशंका बढ़ जाती है। चाहे आप किसी भी उम्र के क्यों न हों।

स्टडी कहती है कि खून को गाढ़ा होने से बचाने और ब्लड शुगर कंट्रोल करने में शराब तभी मदद करती है, जब उसे हफ्ते में तीन दिन ही एक पेग पीया जाए। कैंसर की बात करें, तो शराब पीने से ये बीमारी जल्दी घर कर सकती है।

इस स्टडी को अमेरिका में 3 लाख 40 हजार 600 लोगों पर किया गया। इसके अलावा 93 हजार 600 मरीजों पर भी स्टडी की गई। 1997 से 2009 तक 18 से 85 साल वाले सभी लोगों पर ये स्टडी हुई।

रिसर्च करने वालों ने पाया कि जो लोग हर हफ्ते चार या ज्यादा बार एक या ज्यादा पेग शराब पीते हैं, उनमें जल्दी मौत की 20 फीसदी आशंका होती है। इससे ये भी पता चला कि रोज शराब पीने से दिल की बीमारियों से बचने की बात सही नहीं है। हर हफ्ते एक या दो पेग शराब पीने से भले ही दिल की बीमारी से बचत हो, लेकिन रोज शराब पीने से वो फायदे की जगह नुकसान करती है।

स्टडी में पाया गया कि इकारिया, ग्रीस, सार्डिनिया, इटली, निकोया प्रायद्वीप, कोस्टा रिका में लोग मध्य-पूर्व का भोजन करते हैं और हर रोज एक या दो पेग रेड वाइन पीते हैं। वहीं, जापान के ओकीनावा में लोग चावल से बनी शराब पीते हैं।

Related Post

फारूक बोले–इनके बाप का नहीं पीओके, शाहनवाज ने दिया जवाब-पाक के बाप का भी नहीं

Posted by - November 15, 2017 0
पाक अधिकृत कश्मीर पर जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला के विवादित बयानों का…

ऑस्ट्रेलिया में स्ट्रॉबेरी से निकल रहीं सिलाई वाली सुइयां, 6 राज्यों में रोकी बिक्री

Posted by - September 20, 2018 0
पुलिस प्रशासन ने स्ट्रॉबेरी से छेड़छाड़ करने वालों पर 51 लाख रुपए का इनाम घोषित किया सिडनी। ऑस्ट्रेलिया में इस वक्त…

1 दिसंबर से सभी नए चारपहिया वाहनों पर ‘फास्टैग’ जरूरी

Posted by - November 3, 2017 0
एक दिसंबर से सभी नये चौपहिया वाहनों पर ‘फास्टैग’ उपकरण लगाना अनिवार्य होगा. यह फास्टैग वाहन विनिर्माता या उसके अधिकृत…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *