शोध : वैज्ञानिकों ने विकसित की मटर की नई प्रजाति, किसान ले सकेंगे अधिक पैदावार

68 0

नई दिल्‍ली। भारतीयों के भोजन में मटर प्रमुख रूप से शामिल है। इसे प्रोटीन का अच्‍छा स्रोत माना जाता है और दलहन तथा सब्जी के रूप में इसका बड़े पैमाने पर इस्‍तेमाल होता है। भारतीय शोधकर्ताओं ने अब मटर की एक ऐसी प्रजाति विकसित की है, जिसके पौधे में अधिक फूल लगते हैं। इसके कारण पौधे में लगने वाली मटर की फलियों की संख्या बढ़ सकती है, जिससे ज्‍यादा पैदावार संभव हो सकेगी।

किसने किया शोध ?

भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान (IVRI), वाराणसी, भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली और केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान, करनाल के वैज्ञानिकों ने यह अध्ययन किया है। अध्ययन के नतीजे शोध पत्रिका ‘प्लॉस वन’ में प्रकाशित किए गए हैं। बता दें कि मटर की सामान्य किस्मों के पौधे में हर डंठल पर एक या दो फूल होते हैं।

कैसे तैयार की नई किस्‍म ?

वैज्ञानिकों ने मटर की दो अलग-अलग प्रजातियों वीएल-8 और पीसी-531 के संकरण के जरिए मटर की एक नई किस्म तैयार की। वैज्ञानिकों ने बताया कि इस नई प्रजाति के प्रत्येक डंठल पर शुरू में दो फूल लगते हैं, लेकिन चार पीढ़ी के बाद इस प्रजाति के पौधों के प्रत्येक डंठल में दो से अधिक फूल देखे गए। इसके कारण एक डंठल में अधिक फलियां लगती हैं। संकरण से प्राप्त पांच किस्मों वीआरपीएम-501, वीआरपीएम-502, वीआरपीएम-503, वीआरपीएम-901-3 और वीआरपीएसईएल-1पी के पौधों के कई डंठलों में 3 फूल भी लगे। एक अन्य प्रजाति, जिसे वीआरपीएम-901-5 नाम दिया गया है, उसके डंठलों में 5 फूल तक देखे गए हैं। मटर की इन प्रजातियों के पौधों के आधे से अधिक डंठलों में 2 से अधिक फूल लगे पाए गए।

क्‍या कहना है शोधकर्ताओं का ?

शोधकर्ताओं में शामिल IVRI के वैज्ञानिक डॉ. राकेश दुबे ने बताया, ‘एक डंठल पर अधिक फूल वाली नई किस्मों के मटर के पौधों के उत्पादन में सामान्य किस्मों की अपेक्षा उल्लेखनीय बढ़ोतरी देखी गई है।’ उन्‍होंने कहा, ‘इस शोध के नतीजों से शोधकर्ताओं, शिक्षाविदों और उद्योगों को एक आधार मिलेगा, जिससे मटर की बेहतर गुणवत्ता और अधिक उत्पादन वाली प्रजातियां विकसित करने में मदद मिल सकती है। यही नहीं, भविष्य में इसकी मदद से जल्दी पैदावार देने वाली किस्मों के विकास संबंधी शोध भी किए जा सकते हैं।’

Related Post

रेप केस में आसाराम समेत 3 लोग दोषी करार, जोधपुर के कोर्ट ने सुनाया फैसला

Posted by - April 25, 2018 0
जोधपुर। रेप केस में जोधपुर की निचली अदालत ने आसाराम को दोषी करार दिया है। जज मधुसूदन शर्मा ने जोधपुर सेंट्रल…

शिवसेना ने उठाए सवाल – क्या 16 अगस्त को ही हुआ था वाजपेयी का निधन ?

Posted by - August 27, 2018 0
मुंबई। शिवसेना के वरिष्ठ नेता और राज्‍यसभा सांसद संजय राउत ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के समय…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *