पाकिस्तानी हेलीकॉप्‍टर भारतीय सीमा में घुसा, अंदर बैठे थे PoK के प्रधानमंत्री

81 0

श्रीनगर। एक तरफ पाकिस्‍तान जहां बातचीत के जरिए मसलों को हल करने का दावा कर रहा है, वहीं वह अपनी ओछी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। सीमा पार से संघर्ष विराम उल्‍लंघन के बीच अब पाकिस्तान ने हवाई सीमा के उल्लंघन करने की भी हिमाकत कर डाली। जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में रविवार (30 सितंबर) को नियंत्रण रेखा (LoC) के पास एक पाकिस्तानी हेलीकॉप्‍टर भारतीय सीमा के अंदर आ गया। भारतीय जवानों ने हेलीकॉप्‍टर पर फायरिंग की तो वह वापस लौट गया।

सेना ने दी जानकारी

जम्मू में सेना के जनसंपर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया कि एक पाकिस्तानी हेलीकॉप्‍टर रविवार दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर पुंछ में भारतीय सीमा के 700 मीटर अंदर तक आ गया। सफेद रंग के हेलीकॉप्टर ने गूलपुर क्षेत्र में सीमा के इस तरफ प्रवेश किया। हालांकि, जवानों की फायरिंग के बाद हेलीकॉप्टर तुरंत लौट गया। बता दें कि इससे पहले इसी साल 21 फरवरी को भी पाकिस्तानी सेना का एमआई-17 हेलीकॉप्टर पुंछ के पास पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में एलओसी के 300 मीटर अंदर तक आ गया था। मामले की गहराई से छानबीन की जा रही है।

हेलीकॉप्टर में थे पीओके के पीएम !

मीडिया रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि जो हेलीकॉप्टर भारतीय सीमा के अंदर आया, उसमें पीओके (पाक अधिकृत कश्‍मीर) के प्रधानमंत्री फारूक हैदर सवार थे। अचानक पहाड़ियों के बीच हेलीकॉप्टर को घूमता देखते ही भारतीय सुरक्षाबल सतर्क हो गए और उन्‍होंने हेलीकॉप्‍टर को लक्ष्‍य कर उसकी तरफ फायरिंग की। इसके बाद कुछ ही देर में यह हेलीकॉप्टर वापस लौट गया। फिलहाल, सुरक्षाबलों को अलर्ट कर दिया गया है और यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि आखिर किस मकसद से पाकिस्तान का यह हेलीकॉप्टर भारतीय सीमा में दाखिल हुआ था।

क्‍या है नियम ?

नियमों के मुताबिक कोई भी हेलीकॉप्टर लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) से एक किलोमीटर के दायरे में अंदर नहीं आ सकता है। दोनों देशों के बीच हुए 1991 समझौते के तहत एलओसी के दोनों ओर बफर जोन निर्धारित किया गया है। नियमों के मुताबिक, घूमने वाले पंखों वाला कोई विमान एलओसी के एक किलोमीटर पास नहीं आ सकता। वहीं, फिक्स पंखों वाला विमान सीमा के 10 किलोमीटर पास नहीं आ सकता।

Related Post

सुप्रीम कोर्ट ने कहा – जनहित याचिकाओं का हो रहा बेजा इस्तेमाल, पुनर्विचार की जरूरत

Posted by - November 25, 2017 0
नई दिल्ली  : जनहित याचिकाओं के दुरुपयोग पर चिंता जताते हुए शीर्ष अदालत ने कहा कि इस व्यवस्था पर अब…

आरुषि हत्याकांड : बढ़ेंगी तलवार दंपति की मुश्किलें, सुप्रीम कोर्ट पहुंची सीबीआई

Posted by - March 9, 2018 0
आरुषि मर्डर मिस्ट्री में नया मोड़, सीबीआई ने दी तलवार दंपति की रिहाई को चुनौती नई दिल्ली। नोएडा के बहुचर्चित आरुषि-हेमराज…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *