योगी की ट्रिगर हैप्पी पुलिस, कार न रोकने पर एप्पल कंपनी के मैनेजर की कर दी हत्या

67 0

लखनऊ। यूपी  में पुलिस की गुंडागर्दी एक बार फिर सामने आई है। प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक सिपाही ने मल्टीनेशनल कंपनी के एक अधिकारी विवेक तिवारी को गोली मार दी, जिससे उसकी मौत हो गई। पुलिस का कहना है कि उसने उन्‍हें गाड़ी रोकने का इशारा किया, लेकिन विवेक ने गाड़ी नहीं रोकी। इस मामले में आरोपी कॉन्स्टेबल को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस घटना के बाद पुलिस की कार्यशैली पर फिर सवालिया निशान लग गए हैं।

क्‍या है मामला?

बताया जा रहा है कि एप्‍पल के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी शुक्रवार (28 सितंबर) की देर रात अपनी सहकर्मी के साथ लौट रहे थे। गोमतीनगर विस्तार के पास दो पुलिसवालों प्रशांत चौधरी और एक अन्य सिपाही ने उन्हें गाड़ी रोकने का इशारा किया लेकिन विवेक ने गाड़ी नहीं रोकी। इसके बाद प्रशांत चौधरी ने विवेक की गाड़ी पर फायरिंग कर दी, गोली सीधे उनके सिर में लगी। कुछ दूरी पर गाड़ी एक दीवार से टकराकर रुक गई। विवेक के साथ कार में बैठी सना ने बताया कि विवेक के सिर से खून बहता देख उसने मदद के लिए गुहार लगाई। तत्काल विवेक को लोहिया अस्पताल ले जाया गया, जहां कुछ देर बाद उसने दम तोड़ दिया।
पुलिस बोली, युवक ने चढ़ाई कार

पुलिस का कहना है कि जब विवेक की कार को रोकने का प्रयास किया गया तो उसने कार चढ़ाने की कोशिश की। इससे सिपाहियों को चोट आई और उनकी बाइक भी क्षतिग्रस्त हो गई। इस पर भी जब कार नहीं रुकी तो सिपाही प्रशांत चौधरी ने फायरिंग कर दी। हालांकि दोनों सिपाहियों को न तो खरोंच आई है और न ही उनकी बाइक दुर्घटनाग्रस्त हुई है। इससे पता चलता है कि पुलिस झूठ बोल रही है। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। आईजी, एसएसपी समेत तमाम आलाधिकारियों ने घटनास्थल का मुआयना किया है। फिलहाल, आरोपी पुलिसकर्मी प्रशांत चौधरी के खिलाफ गोमती नगर थाने में हत्या का केस दर्ज कर लिया गया है।

विवेक की पत्‍नी ने पुलिस पर उठाए सवाल

विवेक की पत्‍नी कल्पना ने यूपी सरकार पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि अगर उनके पति किसी संदिग्ध हालत में थे भी और उन्होंने गाड़ी नहीं रोकी तो आरटीओ दफ्तर जाकर उनकी गाड़ी का नंबर नोट करके उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए थी। पुलिस ने उन्हें गोली क्यों मारी? बता दें कि सुल्तानपुर के रहने वाले विवेक तिवारी एप्‍पल कंपनी में एरिया मैनेजर के पद कार्यरत थे। घर में उनकी पत्‍नी और दो बेटियां हैं। उधर, विवेक तिवारी की सहयोगी सना को पुलिस ने मीडिया से दूर रखने के लिए उनके घर में नजरबंद कर दिया है। पुलिस की इस कार्रवाई पर भी सवाल उठ रहे हैं।

Related Post

लव में सेक्स धोखा नहीं…

Posted by - April 2, 2018 0
निचली अदालत से सजा पाए व्‍यक्ति को बॉम्‍बे हाईकोर्ट ने बरी किया प्रेमिका ने शादी का झांसा देकर बलात्‍कार करने…

संशोधित जनधन योजना में 20 लाख नए लोग शामिल, अब बीमा कवर 2 लाख रुपये

Posted by - September 17, 2018 0
प्रधानमंत्री जनधन योजना में खाताधारकों की कुल संख्या बढ़कर 32.61 करोड़ हुई नई दिल्ली। भारत सरकार की संशोधित प्रधानमंत्री जनधन योजना…

There are 1 comments

  1. Pingback: विवेक हत्याकांड : आरोपी दोनों पुलिस वाले बर्खास्त, जांच के लिए एसआईटी गठित

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *