इंडोनेशिया में 7.5 तीव्रता के भूकंप के बाद सुनामी का कहर, 384 लोगों की जान गई

91 0

जकार्ता। इंडोनेशिया का मध्य सुलावेसी प्रांत शुक्रवार (28 सितंबर) शाम 7.5 तीव्रता के भूकंप से दहल उठा। भूकंप के बाद दो शहरों पालु और दोंगाला में सुनामी आ गई। इससे समुद्र में ऊंची लहरें उठ रही हैं जो तटबंधों को तोड़ते हुए भू-भाग में तबाही मचा रही हैं। सुनामी की चपेट में आकर 384 लोगों की मौत की खबर है। इंडोनेशिया के भूगर्भ विभाग के मुताबिक, सुनामी का सबसे ज्यादा असर पालु में देखा गया। यहां तटीय इलाकों में स्थित इमारतों को भारी नुकसान पहुंचा है।

बढ़ सकती है मृतकों की संख्‍या

भयंकर भूकंप और सुनामी की चपेट में आए लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। अबतक मौत का आंकड़ा 384 पहुंच चुका है, वहीं करीब 540 लोग जख्मी हैं और सैंकड़ों लापता हैं। मृतकों की संख्‍या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। भूकंप के बाद पालु के अस्पतालों में घायलों की संख्या इतनी ज्‍यादा हो गई है कि बहुत से लोगों का इलाज खुले में किया जा रहा है। खबरों के मुताबिक, इस तबाही में हजारों घरों और अन्य इमारतों को नुकसान पहुंचा है, जिनमें एक 80 कमरों वाला होटल भी शामिल है। इसके अलावा कुछ मस्जिदों, शॉपिंग मॉल्स आदि के गिरने की भी खबर है।

दो बार आया भूकंप

समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार, इंडोनेशिया के कुछ इलाकों में शुक्रवार सुबह भी 6.1 तीव्रता के भूकंप झटके महसूस किए गए थे। इसमें एक व्यक्ति की मौत हुई थी और 10 लोग घायल हुए थे। कई इमारतों को भी नुकसान पहुंचा। भूकंप का केंद्र दोंगाला से 56 किमी दूरी पर जमीन से 10 किमी नीचे था। पालु शहर की दूरी भूकंप के केंद्र से करीब 80 किलोमीटर है। यहां की आबादी 3.5 लाख है। इंडोनेशियाई मीडिया में एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें समुद्री लहरों को तेजी से पालु में घुसते देखा जा सकता है।

इंडोनेशिया में सुनामी ने किस कदर तबाही मचाई है, इसकी गवाह है यह तस्वीर

कई घरों को नुकसान, कई परिवार लापता

इंडोनेशिया की डिजास्टर एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुरवो ने पालु और दोंगाला में सुनामी की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि ऊंची लहरों की वजह से कई घरों को नुकसान पहुंचा और कई परिवार भी लापता हैं। सुतोपो ने कहा कि सुलावेसी में कई इलाकों का संपर्क टूट गया है। अंधेरे की वजह से राहत और बचाव कार्य में भी मुश्किलें आ रही हैं।

पिछले महीने भी आया था भूकंप

बता दें कि इसी साल इंडोनेशिया के लोम्बोक द्वीप पर 29 जुलाई से 19 अगस्त के बीच 6.3 से 6.9 तीव्रता के बीच भूकंप आए थे। इन जलजलों में 557 लोग मारे गए थे और 4 लाख से ज्यादा लोग विस्थापित हो गए थे। दरअसल,  इंडोनेशिया दुनिया में सबसे ज्यादा प्राकृतिक आपदाओं वाला देश है। यह ‘रिंग ऑफ फायर’ पर मौजूद है। यहां धरती के अंदर मौजूद टेक्टॉनिक प्लेट्स आपस में टकराने से भूकंप और ज्वालामुखी विस्फोट की घटनाएं ज्यादा होती हैं।

2004 में गई थी 1.68 लोगों की जान

वर्ष 2004 में इंडोनेशिया के सुमात्रा में 9.3 तीव्रता का भूकंप आया था। इसके बाद हिंद महासागर के तटीय इलाकों वाले देश सुनामी की चपेट में आ गए थे। तब भारत समेत 14 देश सुनामी से प्रभावित हुए थे। दुनियाभर में 2.20 लाख लोगों की जान गई। इनमें 1.68 लाख लोग इंडोनेशिया के थे।

Related Post

हिमाचल प्रदेश और पंजाब में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात, स्कूल-कॉलेज बंद

Posted by - September 24, 2018 0
चंडीगढ़/शिमला। हिमाचल प्रदेश और पंजाब के कई इलाकों में भारी बारिश के कारण बाढ़ के हालात बन गए हैं। पंजाब…

शोपियां में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, हिज्बुल कमांडर समेत 5 आतंकी ढेर

Posted by - May 6, 2018 0
मारे गए आतंकियों में कश्‍मीर यूनिवर्सिटी में सोशियोलॉजी का असिस्‍टेंट प्रोफेसर मोहम्‍मद रफी भट भी कश्मीर में आतंकियों के सफाए…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *