‘राजू’ नाम के कुत्ते को बनाया जेंटलमैन, फिर मालिक ने वो किया कि आप रह जाएंगे हैरान

39 0

नई दिल्ली। कहते हैं, ‘लालच बुरी बला है’।  ये कहावत इस बार सही साबित हुई मध्‍य प्रदेश में, जहां ज्‍यादा राशन लेने के लिए एक व्‍यक्ति ने अपने कुत्‍ते का नाम राशन कार्ड में जुड़वा लिया। राशन कार्ड में उसने कुत्‍ते का नाम ‘राजू’ लिखवाया है। जब जांच हुई तो पता चला कि ‘राजू’ उसके परिवार का सदस्‍य नहीं, बल्कि उसका पालतू कुत्‍ता है। 

क्‍या है मामला ?

यह मामला मध्य प्रदेश के धार जिले के एक सुदूरवर्ती गांव का है।  इस गांव के निवासी नरसिंह बोडार (75)  अपने बेटे ‘राजू’ के नाम पर कोटे की दुकान से उसके हिस्‍से का 60 किलो राशन घर लाते रहे हैं। लेकिन जब एक बार पीडीएस अधिकारी उनके घर गए और राजू को बुलवाया, तो वह पूंछ हिलाते हुए बाहर आया। यह देखकर अधिकारी हैरान रह गए। तब जाकर मामला खुला कि ‘राजू’ इंसान नहीं बल्कि उनका पालतू कुत्‍ता है। नरसिंह एक साल से ज्यादा समय से अपने पालतू कुत्ते ‘राजू’ के नाम पर 60 किलो गेहूं और चावल लाते थे। इतना ही नहीं, राशन कार्ड के ‘मुखिया से संबंध’  वाले कॉलम में उन्‍होंने बाकायदा ‘राजू’ को अपना पुत्र लिखवाया है। बता दें कि राशन कार्ड पर दर्ज प्रति व्यक्ति को हर महीने 5 किलो राशन मिलता है।

कैसे हुआ खुलासा ?

दरअसल, यह मामला तब खुला जब सेल्समैन कैलाश मारू ने एक बार राशन देते समय नरसिंह से आधार कार्ड मांगा। नरसिंह ने तीन आधार में से अपना और अपनी पत्‍नी का आधार नंबर तो दे दिया, लेकिन जब तीसरे सदस्‍य का आधार नंबर नहीं दे पाया तो पूछने पर उसने बताया कि वह तो मेरा कुत्ता है। इसके बाद कैलाश ने अधिकारियों को इसकी सूचना दी। शुरुआती जांच में सामने आया कि राशन कार्ड पंचायत ऑफिस में बनाए गए थे। खाद्य अधिकारी ने कहा है कि हम मामले की जांच कर रहे हैं, जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ उचित कार्रवाई होगी। दरअसल आधार नंबर पूरे पोर्टल में अपडेट कर दिए गए हैं, इसलिए लाभार्थियों को वेरिफिकेशन के लिए अपना आधार कार्ड दिखाना पड़ता है।

Related Post

मनमोहन बोले – संगठित लूट है नोटबंदी, जेटली का पलटवार – असली लूट तो 2G और कोलगेट

Posted by - November 7, 2017 0
जेटली बोले – नोटबंदी हर समस्या का हल नहीं, लेकिन देश के लिए कम नकदी वाली व्यवस्था जरूरी नई दिल्‍ली।…

वर्ल्‍ड टैलेंट रैंकिंग में सुधरी भारत की स्थिति, पहुंचा 51वें स्थान पर

Posted by - November 21, 2017 0
प्रतिभाओं को आकर्षित, विकसित और उन्हें अपने यहां बनाए रखने के मामले में भारत की वैश्विक रैंकिंग तीन अंक सुधरकर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *