सर्जिकल स्ट्राइक के हीरो रहे लांस नायक संदीप सिंह कुपवाड़ा में हुई मुठभेड़ में शहीद

206 0
  • संदीप ने शहीद होने से पहले तीन आतंकियों को मार गिराया,  इसी दौरान एक गोली सिर में लगी

श्रीनगर। सर्जिकल स्ट्राइक में अहम भूमिका निभाने वाले लांस नायक संदीप सिंह सोमवार (24 सितंबर) को एलओसी पर कुपवाड़ा में हुई आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद हो गए। शहीद होने के पहले उन्होंने तीन आतंकियों को मार गिराया। इस दौरान लांस नायक सिंह ने अदम्‍य साहस का परिचय दिया।

तंगधार में लीड कर रहे थे टीम को

दरअसल, कुपवाड़ा के तंगधार में रविवार को कुछ आतंकियों के घुसपैठ करने की सूचना मिली थी। इसके बाद सुरक्षाबलों ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया। संदीप सिंह पैरा कमांडो टीम के साथ इस ऑपरेशन को लीड कर रहे थे। देर रात तक चले इस ऑपरेशन में दो आतंकी मारे गए थे। रात ज्यादा हो जाने के चलते ऑपरेशन को उस समय रोक दिया गया। सोमवार को जब दोबारा मुठभेड़ शुरू हुई तो सुरक्षाबलों ने तीन और आतंकी ढेर कर दिए, लेकिन इसी दौरान एक गोली संदीप सिंह को भी सिर में लगी। घायल संदीप सिंह को श्रीनगर के 92 बेस अस्पताल में भर्ती किया गया, जहां उनका निधन हो गया।

सर्जिकल स्‍ट्राइक टीम का थे हिस्‍सा

बता दें कि 18 सितंबर, 2016 को उड़ी में सैन्य शिविर पर आतंकी हमला हुआ था। इसमें 21 जवान शहीद हुए थे। इसके बाद 29 सितंबर को भारतीय सेना ने एलओसी पार कर तीन किलोमीटर अंदर तक जाकर आतंकी ठिकानों पर कार्रवाई की थी। संदीप इस सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान पैरा कमांडो के दल में शामिल थे।  इस सर्जिकल स्ट्राइक से भारत ने दुनिया को बता दिया था कि वो दुश्मन को उसके घर में घुसकर मारने की कूवत रखता है। संदीप का इस टीम का हिस्सा होना इस बात को साबित करता है कि वो एक बहादुर भारतीय सैनिक थे।

गांव में शोक की लहर

गुरदासपुर जिले के घुम्मणकलां के रहने वाले संदीप वर्ष 2007 में सेना में भर्ती हुए थे। उनके परिवार में पिता जगदेव सिंह, मां कुलविंदर कौर, पत्‍नी गुरप्रीत कौर और पांच साल का एक बेटा है। उनके शहादत की खबर गांव पहुंचते ही पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई और सभी लोग  उनके घर के बाहर जमा हो गए।  पूरे गांव के लोग इस दुख की घड़ी में संदीप के पिता जगदेव सिंह के साथ खड़े हैं।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *