ऐसा है भारत का सबसे साफ-सुथरा गांव, यहां हर कोई है पढ़ा-लिखा, बीमारियों से है कोसो दूर

74 0

शिलांग। ऐसा माना जाता है कि गांव के लोग खुले में शौच करते हैं, सड़कों पर थूकते हैं इसलिए वो साफ-सफाई में बहुत पीछे हैं, लेकिन आज हम आपको भारत के ऐसे साफ-सुथरे गांव के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे लोग ‘भगवान का अपना बगीचा’ कहकर बुलाते हैं।

कहां है यह गांव

इस गांव का नाम Mawlynnong है। खासी हिल्स डिस्ट्रिक्ट में स्थित यह गांव मेघालय की राजधानी शिलांग और भारत-बांग्लादेश बॉर्डर से 90 किलोमीटर दूर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस गांव का दौरा कर चुके हैं। यहां स्वच्छ भारत अभियान से जुड़े कई लोगों को उन्होंने सम्मानित भी किया। आपको बता दें कि सफाई के साथ-साथ यह गांव शिक्षा में भी अव्वल है। यहां की साक्षरता दर 100 फीसदी है। इतना ही नहीं, इस गांव में ज्यादातर लोग सिर्फ अंग्रेजी में ही बात करते हैं।

सफाई का ख्याल

Mawlynnong वर्ष 2005 में भारत का सबसे साफ गांव बना। यहां पर कोई भी दिन ऐसा नहीं होता जब सफाई न की जाए। 500 की आबादी वाले इस गांव से बीमारियां कोसों दूर हैं और घर का कोई सदस्य अगर सफाई में हाथ नहीं बंटाता तो उसे खाना भी नहीं दिया जाता। यहां पर खुले में शौच जाने की सख्त मनाही है। इसके अलावा लोग सड़कों पर थूकने से भी परहेज करते हैं।

दूर-दूर से आते हैं टूरिस्‍ट

गांव के हर किनारे पर कूड़े के ढेर की बजाय खूबसूरत फूल और पेड़-पौधे लगे हुए हैं। यहां पर बांस से बने घर इस जगह को और भी खूबसूरत बना देते हैं। इसी कारण इसे देखने के लिए दूर-दूर से टूरिस्ट यहां आते हैं।

Related Post

पटना हाईकोर्ट ने नए शराब कानून की धारा 76(2) असंवैधानिक घोषित की

Posted by - November 6, 2017 0
अधिनियम के तहत अभियुक्तों को हाईकोर्ट के अलावा निचली अदालतों से भी मिल सकेगी अग्रिम जमानत पटना। बिहार की नीतीश सरकार…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *