स्‍टडी : पूर्वाग्रह से ग्रसित हो सकते हैं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वाले रोबोट

45 0

बोस्टन। वैज्ञानिकों ने एक अध्‍ययन में खुलासा किया है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से युक्त मशीनें बहुत ही आसानी से एक-दूसरे से नस्ल और लैंगिक आधार पर भेदभाव सीख सकती हैं क्योंकि दूसरों के प्रति पूर्वाग्रह से ग्रसित होने के लिए ज्यादा बुद्धि की जरूरत नहीं होती है।

किसने किया अध्‍ययन ?

अमेरिका स्थित मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) और ब्रिटेन की कार्डिफ यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने अपने अध्ययन में पाया है कि अनजान मशीनों का एक समूह पहचान, नकल और एक-दूसरे के व्यवहार से सीख कर पूर्वाग्रह जाहिर कर सकता है। भले ही ऐसा लगता हो कि पूर्वाग्रह मनुष्य में होने वाली दिक्कत है, लेकिन कम्प्यूटर में ऐसे एल्गोरिदम हैं, जो पूर्वाग्रह दर्शा रहे हैं।

क्‍या कहना है वैज्ञानिकों का ?

वैज्ञानिकों का कहना है कि मशीनों में जो प्रोग्राम डाले गए हैं, वे सार्वजनिक रिकॉर्ड और अन्य डेटा के आधार पर नस्ली और लैंगिक आधार पर पूर्वाग्रह दर्शा रहे हैं। इससे प्रतीत होता है कि आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस युक्त मशीनों में खुद-ब-खुद पूर्वाग्रह आ रहा है। इस अध्ययन का निष्कर्ष साइंटिफिक रिपोर्ट्स में प्रकाशित हुआ है।

Related Post

रिसर्च में खुलासा : भारत में 80 फीसदी महिलाएं ऑस्टियोपोरोसिस की चपेट में

Posted by - November 24, 2018 0
नई दिल्ली। कम उम्र की लड़कियों, किशोरियों, गर्भवती महिलाओं, स्तनपान कराने वाली महिलाओं और रजोनिवृत्त महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *