सुप्रीम कोर्ट ने मनोज तिवारी के खिलाफ जारी किया अवमानना नोटिस, 25 को तलब

116 0
  • गोकुलपुरी में सील परिसर का ताला तोड़ने के आरोप में मनोज तिवारी पर दर्ज हुई है एफआईआर

नई दिल्ली। दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी द्वारा यमुनापार में सीलिंग तोड़ने का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। सुप्रीम कोर्ट ने नगर निगम द्वारा सील किए गए एक परिसर की सील कथित रूप से तोड़ने के मामले में मनोज तिवारी को अवमानना का नोटिस जारी कर उन्हें 25 सितंबर को पेश होने का आदेश दिया है। कोर्ट ने नोटिस जारी करने से पहले इस घटना के बारे में सर्वोच्‍च न्‍यायालय द्वारा नियुक्त निगरानी समिति की रिपोर्ट भी देखी।

क्‍या कहा सर्वोच्‍च अदालत ने ?

जस्टिस मदन बी लोकुर, जस्टिस एस अब्दुल नजीर और जस्टिस दीपक गुप्ता की पीठ ने बीजेपी सांसद मनोज तिवारी को 25 सितंबर को पेश होने का निर्देश देते हुये कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक निर्वाचित प्रतिनिधि ने शीर्ष अदालत के आदेशों की अवहेलना करने का प्रयास किया। निगरानी समिति की रिपोर्ट देखने के बाद पीठ ने टिप्पणी की कि तिवारी द्वारा पूर्वी दिल्ली में एक परिसर की सील तोड़ने के आरोप ‘परेशान करने वाली स्थिति’ को दर्शाते हैं। सीलिंग मामले में न्याय मित्र की भूमिका निभा रहे वरिष्ठ अधिवक्ता रंजीत कुमार ने निगरानी समिति की रिपोर्ट पेश की और इसके साथ कथित घटना से संबंधित एक वीडियो भी संलग्न था।

क्‍या कहा कोर्ट मित्र ने ?

सुनवाई के दौरान कोर्ट मित्र ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना की गई, जबकि कोर्ट का आदेश है कि मॉनिटरिंग कमेटी के काम में बाधा नहीं पहुंचाई जाए। कोर्ट मित्र ने यह भी कहा कि सीलिंग तोड़कर सरकारी काम में बाधा पहुंचाई गई है। मॉनिटरिंग कमेटी ने मनोज तिवारी के खिलाफ अवमानना का केस चलाने और कड़ी कार्रवाई करने की भी मांग की है।

कोर्ट ने पहले भी दी थी चेतावनी

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले भी निगरानी समिति के काम में किसी भी प्रकार के हस्तक्षेप पर कड़ा रुख अपनाते हुए कहा था कि ऐसा करने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। इससे पहले भी सीलिंग कार्रवाई में बाधा पहुंचाने पर सुप्रीम कोर्ट बीजेपी विधायक ओपी शर्मा समेत कई नेताओं को तलब कर चुका है।

मनोज के खिलाफ दर्ज हुई है एफआईआर

कोर्ट मित्र रंजीत कुमार ने पीठ को यह भी बताया कि पूर्वी दिल्ली नगर निगम की शिकायत के आधार पर गोकुलपुरी इलाके में सील किए गए एक परिसर का ताला तोड़ने के आरोप में मनोज तिवारी और अन्य के खिलाफ एक दिन पहले प्राथमिकी दर्ज की गई है। बता दें कि यह संपत्ति इसलिए सील की गई थी क्योंकि इसमें दिल्ली के मास्टर प्लान का कथित रूप से उल्लंघन करके डेयरी चलाई जा रही थी।

Related Post

उई मां ! इतने बच्चे पैदा करना चाहती हैं प्रियंका चोपड़ा

Posted by - June 22, 2018 0
मुंबई। आजकल प्रियंका चोपड़ा लाइमलाइट में हैं। अमेरिकी टीवी सीरीज क्वांटिको में काम करने के बाद वो रोहिंग्या के कैंप…

यूपी में अब तक तोड़ी जा चुकी हैं आंबेडकर की 9 मूर्तियां, कोई गिरफ्तार नहीं

Posted by - April 5, 2018 0
लखनऊ। मार्च में मूर्तियां तोड़े जाने का सिलसिला शुरू होने के बाद से अब तक यूपी में संविधान के निर्माता…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *