मुख्य सचिव से मारपीट : केजरीवाल-सिसोदिया को कोर्ट में पेश होने का आदेश

65 0

नई दिल्‍ली। दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मारपीट के मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने पुलिस द्वारा दायर चार्जशीट पर संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया समेत 13 लोगों को समन भेजा है। इन सभी लोगों को 25 अक्टूबर को अदालत में  पेश होने का आदेश दिया गया है।

किन विधायकों को भेजा समन ?

पटियाला हाउस की स्‍पेशल फास्‍ट ट्रैक कोर्ट ने जिन विधायकों को समन भेजा है, उनमें अमानतुल्ला खां, प्रकाश जारवाल, नितिन त्यागी, रितुराज गोविंद, संजीव झा, अजय दत्त, राजेश ऋषि, राजेश गुप्ता, मदन लाल, परवीन कुमार और दिनेश मोहनिया के नाम शामिल हैं। इन लोगो पर गलत तरीके से बंधक बनाने, सरकारी कर्मचारी को अपना काम करने से रोकने, अपमान करने और अपराध के लिए उकसाने का भी आरोप है।

क्‍या था मामला ?

दरअसल, यह पूरा मामला 19 फरवरी का है जब सीएम केजरीवाल के आवास पर आधी रात को दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ कथित तौर पर मारपीट और बदसलूकी की गई थी। इस मामले में 13 अगस्त को पटियाला हाउस कोर्ट में 1533 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की गई थी, जिसमें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के साथ-साथ 11 अन्य विधायकों के नाम शामिल हैं। इस केस में केजरीवाल के तत्कालीन एडवाइजर वीके जैन को मुख्य गवाह बनाया गया है।

मुख्‍य सचिव का क्‍या है आरोप ?

मुख्‍य सचिव अंशु प्रकाश का आरोप है कि मुख्‍यमंत्री आवास में उनके साथ बदसलूकी और हाथापाई के दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी वहां मौजूद थे। बता दें कि इस घटना के बाद दिल्ली के आईएएएस अधिकारियों ने केजरीवाल सरकार और मंत्रियों से मिलना बंद कर दिया था, जिसके बाद सीएम केजरीवाल ने कई दिनों तक उपराज्यपाल ऑफिस में धरना दिया था।

Related Post

पैराडाइज पेपर्स लीक : सरकार ने सीबीडीटी को दिए जांच के आदेश

Posted by - November 6, 2017 0
पैराडाइज पेपर्स लीक में  भारत समेत दुनिया के कई देश, विजय माल्‍या से जुड़े प्रमोटर्स भी शामिल नई दिल्ली। पैराडाइज पेपर्स…

OMG : पीएम इमरान से मिलने आए कुवैती राजदूत का पर्स चुराते पकड़ा गया पाक अफसर

Posted by - September 30, 2018 0
इस्लामाबाद। पाकिस्तान के एक अधिकारी ने अपनी हरकत से अपने ही देश को शर्मसार कर दिया है। दरअसल इस सरकारी अधिकारी…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *