राम मंदिर पर बनी सहमति, लोकसभा चुनाव से पहले शुरू हो जाएगा निर्माण : डॉ. वेदांती

118 0
  • राम जन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा, लखनऊ में बनेगी दुनिया की सबसे बड़ी मस्जिद

इलाहाबाद। जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव नजदीक आता जा रह है, अयोध्या में राम मंदिर का मुद्दा और गरमाता जा रहा है। राम मंदिर के निर्माण को लेकर तरह-तरह के दावे किए जा रहे हैं, इस बीच राम जन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. राम विलास वेदांती ने एक बड़ा दावा किया है। मीडिया से बातचीत में वेदांती ने कहा कि आपसी सहमति से राम मंदिर निर्माण का फॉर्मूला निकाल लिया गया है और 2019 लोकसभा चुनाव से पहले अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनना शुरू हो जाएगा।

डॉ. वेदांती ने क्‍या किया दावा ?

इलाहाबाद में शनिवार (15 सितंबर) को ‘मिशन मोदी, अगेन पीएम’ कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे डॉ. वेदांती ने दावा किया अयोध्या विवाद के पक्षकारों ने मंदिर निर्माण को लेकर आपसी सहमति का फॉर्मूला निकाल लिया है। अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन की मध्यस्थता के बाद आपसी सहमति से यह फॉर्मूला सामने आया है। उन्होंने कहा कि फार्मूले के मुताबिक, लखनऊ में दुनिया की सबसे बड़ी मस्जिद बनाई जाएगी और अयोध्या में रामलला का भव्य मंदिर बनाया जाएगा। ये दोनों ही काम लोकसभा चुनाव के पहले शुरू हो जाएंगे। डॉ. वेदांती ने यह दावा भी किया कि लखनऊ में बनने वाली दुनिया की सबसे बड़ी मस्जिद बाबर के नाम पर नहीं होगी।

मिल-जुलकर बनाएंगे मंदिर

बता दें कि डॉ. वेदांती पूर्व भाजपा सांसद हैं और राम जन्म भूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष भी हैं। वेदांती ने कहा कि अक्टूबर से पहले सुप्रीम कोर्ट में आउट ऑफ कोर्ट सेटलमेंट होने का हलफनामा दाखिल कर दिया जाएगा और अदालत की इस पर मुहर के बाद भव्य मंदिर के निर्माण का कार्यक्रम शुरू हो जाएगा। उन्‍होंने कहा कि दूसरे पक्षकारों से इस संबंध में समझौता अंतिम चरण में है। शीघ्र ही यह फैसला लोगों के सामने होगा।  वेदांती ने कहा कि देश में अमन-चैन को बढ़ाने के लिए और भाईचारा कायम रखने के लिए लखनऊ में प्रस्तावित मस्जिद और अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का कार्य सब लोग मिल-जुलकर करेंगे।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *