JNU छात्रसंघ चुनाव : हंगामे और तोड़फोड़ के बाद रोकी गई वोटों की गिनती

120 0

नई दिल्ली। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में छात्रसंघ चुनाव के बाद काउंटिंग के दौरान मचे हंगामे के बाद वोटों की गिनती रोक दी गई है। NSUI ने आरोप लगाया है कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के लोगों ने मतगणना में बाधा पहुंचाई है। ABVP उसकी जीत से बौखला गई है। बता दें कि शुक्रवार (14 सितंबर) को हुए जेएनयू छात्रसंघ चुनाव में 68 % मतदान हुआ था।

चुनाव समिति की महिलाओं से मारपीट

चुनाव समिति का कहना है कि शुक्रवार रात 10 बजे मतगणना शुरू हुई। समिति के मुताबिक, थोड़ी देर बाद ही कुछ लोग मतगणना केंद्र पर पहुंचे और बैलेट बॉक्स और बैलेट पेपर छीनने का प्रयास किया। चुनाव समिति का यह भी आरोप है कि एक अध्यक्ष और संयुक्त सचिव पद के प्रत्याशी ने चुनाव समिति की महिला सदस्यों के साथ मारपीट की। हंगामे के बाद फिलहाल वोटों की गिनती रोक दी गई है। उधर, वाम संगठनों ने आरोप लगाया है कि देर रात एबीवीपी के उम्मीदवारों और कार्यकर्ताओं ने उत्पात मचाया। हार की सूचना से बौखलाए एबीवीपी समर्थकों ने मारपीट और तोडफोड़ की।

मीडिया की एंट्री बैन

उधर, ABVP ने तोड़फोड़ के आरोपों से इनकार किया है और कहा है कि उनकी पार्टी के एजेंट को कांउटिंग सेंटर पर नहीं बुलाया गया। बवाल के बाद JNU में मीडिया की एंट्री पर भी रोक लगा दी गई है। गार्ड के मुताबिक CEC के कहने पर मीडिया और बाहरी लोगों के अंदर जाने की मनाही कर दी गई है।

इस बार पड़े सर्वाधिक मत

बता दें कि इस बार जेएनयू छात्रसंघ चुनाव में अबतक का सर्वाधिक मतदान प्रतिशत बताया जा रहा है। चुनाव समिति के मुख्य चुनाव अधिकारी हिमांशु कुलश्रेष्ठ ने कहा कि 2012 में सुप्रीम कोर्ट की लिंगदोह समिति की सिफारिशों को जेएनयू में लागू किया गया था। उसके बाद समिति की सिफारिशों के अनुरूप चुनाव होते रहे। बीते 7 वर्षों में कभी भी 60 फीसदी वोट नहीं डाले गए, जबकि इस बार 68 फीसदी मतदान हुआ है।

कौन-कौन है मैदान में
चुनाव अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महासचिव और संयुक्त सचिव पदों के लिए हुए हैं। मौजूदा समय में सभी चारों पदों पर क्रमश: वाम दल की गीता कुमारी, सिमोन जोया खान, दुग्गीराला श्रीकृष्णा और शुभांशु सिंह काबिज हैं। इस साल अध्यक्ष पद के लिए 8 उम्मीदवार मैदान में हैं। आइसा, एआईएसएफ, एसएफआई और डीएसएफ ने इस साल गठबंधन के तहत इंटरनेशनल स्टडीज़ के विद्यार्थी एन. साई बालाजी को अध्यक्ष पद के लिए अपना संयुक्त उम्मीदवार बनाया है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्टूडेंट विंग ABVP ने अध्यक्ष पद के लिए ललित पांडे को अपना उम्मीदवार बनाया है, जबकि कांग्रेस समर्थित NSUI ने विकास यादव को अपना अध्यक्ष उम्मीदवार बनाया है।

Related Post

भारत के लिए बड़ी उपलब्धि, संयुक्त राष्ट्र से शुरू हुआ हिन्दी में समाचार बुलेटिन

Posted by - August 19, 2018 0
पोर्ट लुई। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने हिन्दी को संयुक्त राष्ट्र की आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता दिलाने की…

सलमान के घर गणपति पूजा में कटरीना ने की उल्टी आरती, फैंस ने खूब उड़ाया मजाक

Posted by - September 14, 2018 0
मुंबई। मुंबई में गणेश चतुर्थी काफी धूमधाम से मनाई जाती है। इस खास मौके पर बॉलीवुड स्टार्स भी किसी से…

कैसे मिलेंगे देश को इंजीनियर्स, 23 IIT में जरूरत के मुताबिक टीचर ही नहीं !

Posted by - March 31, 2018 0
बेंगलुरु। देश के प्रीमियर इंजीनियरिंग संस्थान इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी यानी आईआईटी में टीचरों की 34 फीसदी कमी है। सिर्फ…

इटावा में दो नाबालिग लड़कियों की गोली मारकर हत्या, रेप किए जाने की आशंका

Posted by - April 17, 2018 0
इटावा। यूपी के इटावा में दिल दहला देने वाली घटना हुई है। यहां दो नाबालिग लड़कियों की गोली मारकर हत्या…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *