पाक और बांग्लादेश के मुकाबले ज्यादा जीते हैं भारतीय, कई और मामलों में भी हम आगे

56 0

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) के मानव विकास सूचकांक (HDI) रैंकिंग में भारत एक साथ ऊपर चढ़ा है। 189 देशों की सूची में भारत 130वें स्थान पर है। 2016 के 0.624 अंकों के मुकाबले एचडीआई में भारत के अंक अब 0.640 हो गए हैं। इसके साथ ही ये रिपोर्ट कहती है कि भारत में अब लोग ज्यादा दिन जिंदा रहते हैं। साथ ही कई और मामलों में भी भारत ने तरक्की की है।

क्या कहती है HDI रैंकिंग

एचडीआई रैंकिंग बताती है कि भारत ने काफी गरीबी दूर की है। इसके साथ ही यहां जीवन भी बढ़ गया है। साल 1990 में जहां औसतन लोग 60 साल से कम जीते थे। अब यही आंकड़ा 71 साल से ज्यादा हो गया है। यानी लोगों की जिंदगी औसतन 11 साल बढ़ी है।

शिक्षा भी ज्यादा लेते हैं बच्चे

शिक्षा की दिशा में भी भारत ने काफी तरक्की की है। 1990 में जहां औसत तौर पर बच्चे 7.6 साल की उम्र तक ही पढ़ाई करते थे। वहीं, अब ये 12.3 साल हो गया है। यानी स्कूल ड्रॉपआउट की तादाद में बड़ी कमी आई है। इसके साथ भारत की सकल राष्ट्रीय आय में भी इस दौरान 266.6 फीसदी बढ़ोतरी हुई है।

ये देश भारत से आगे, ये पीछे

दक्षिण एशिया की बात करें, तो HDI रैंकिंग में भारत अपने पड़ोसियों पाकिस्तान और बांग्लादेश से आगे है। बांग्लादेश की रैंकिंग 136 और पाकिस्तान की 150 है। जबकि, इस रैंकिंग में सबसे ऊपर नॉर्वे है। जिसके बाद स्विटजरलैंड और ऑस्ट्रेलिया का नंबर है। रैंकिंग में सबसे नीचे अफ्रीकी देश नाइजर है। इसी तरह अफ्रीका के तीन और देश और एशिया का एक देश रैंकिंग में निचले पायदान पर हैं।

Related Post

केंद्र सरकार में नौकरियों का टोटा, लेकिन सैलरी पर लगातार बढ़ रहा है खर्च

Posted by - September 10, 2018 0
नई दिल्ली। केंद्र सरकार में नौकरियों की कमी है। भर्तियां हो नहीं रही हैं, लेकिन आपको जानकर हैरत होगी कि…
राहुल गांधी

मोदी का हमला- बिना कागज देखे 15 मिनट बोलें राहुल, लें विश्वेश्वरैया का नाम

Posted by - May 1, 2018 0
चामराजनगर। पीएम नरेंद्र मोदी भी आज कर्नाटक चुनाव के समर में प्रचार के जरिए कूद पड़े। चामराजनगर के संथामाराहल्ली में…

धरती के लिए अच्छी खबर, पराबैंगनी किरणों से बचाने वाली ओजोन परत हुई दुरुस्त

Posted by - November 6, 2018 0
वॉशिंगटन। धरती के लिए अच्छी खबर है। संयुक्त राष्ट्र की नई रिपोर्ट में बताया गया है कि पराबैंगनी किरणों से…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *