दूर्वा के बिना अधूरी मानी जाती है गणपति की पूजा, ये दिलाता है इन बीमारियों से तुरंत निजात

168 0

लखनऊ। गणेश पूजा में एक खास तरह की घास का विशेष महत्‍व होता है, जिसे दूर्वा कहते हैं। यह गणेश पूजा में जरूर चढ़ाई जाती है। सभी देवी देवताओं में एकमात्र गणेश ही ऐसे देव हैं जिनको यह विशेष किस्‍म की घास चढ़ाई जाती है। शास्त्रों के अनुसार, बिना दूर्वा चढ़ाए गणपति की पूजा संपन्न नहीं होती है। गणेश जी को चढ़ाने के अलावा आयुर्वेद में दूर्वा का उल्‍लेख औषधि की तरह किया गया है, जो बड़े से बड़े रोगों की जड़ को काटती है।

आइए जानते हैं दूर्वा से किन बीमारियों से मिलती है निजात –

डायबिटीज : दूर्वा में ग्लाइसेमिक की क्षमता अच्छी होती है, इसलिए यह डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद हो सकती है।

कब्ज : इसमें भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर पोटेशियम पाया जाता है। ये चीजें कब्ज की समस्या से आसानी से निजात दिला सकती हैं।

सिरदर्द : अगर आप सिरदर्द से हमेशा परेशान रहते हैं तो दूर्वा काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।

नेत्र संबंधी समस्या : दूर्वा पर सुबह-सुबह नंगे पांव चलने से आपकी आंखों की रोशनी बढ़ेती है।

मुंह के छाले : अगर आपके मुंह में छाले हो गए हैं तो दूर्बा का काढ़ा बनाकर इससे कुल्ला करें, आपको फायदा पहुंचेगा।

यूरिन इंफेक्शन : अगर आपके यूरिन में खून आता है तो दूर्वा आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है।

Related Post

फिल्म निर्देशक कल्पना लाजमी ने दुनिया को कहा अलविदा, कैंसर से थीं पीड़ित

Posted by - September 23, 2018 0
मुंबई। नारीवादी विषयों पर फिल्में बनाने के लिए मशहूर कल्‍पना लाजमी का निधन हो गया है। वे 64 वर्ष की थीं।…

अमेरिकी सेना के बेस के ऊपर फटी परमाणु बम जैसी चीज, हो सकता था बड़ा नुकसान

Posted by - August 6, 2018 0
वॉशिंगटन। ग्रीनलैंड में अमेरिकी वायुसेना के अड्डे के ऊपर बीती 25 जुलाई को परमाणु बम जैसा उल्कापिंड फट गया। इस…

CWG में अब पहलवानों ने जीता सोना, 14 गोल्ड के साथ भारत तीसरे स्थान पर

Posted by - April 12, 2018 0
गोल्ड कोस्ट (ऑस्ट्रेलिया)। यहां हो रहे कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत को 14वां गोल्ड मेडल मिल गया है। पहलवानों ने भारत…

श्वेता बच्चन चल रही हैं अपने दादा जी के नक़्शे क़दमों पर…

Posted by - April 19, 2018 0
मुंबई। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन की बेटी श्वेता बच्चन नंदा भले ही अपने अपने माता-पिता के नक़्शे-क़दम पर न चली हों, लेकिन श्वेता  अपने दादाजी को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *