अमेरिका में कुत्‍तों के मारने पर प्रतिबंध, चीनी हर साल मारकर खा जाते हैं 1 करोड़ कुत्ते

51 0

वाशिंगटन। अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने बुधवार (13 सितंबर) को एक विधेयक पारित कर इंसानों के भोजन के लिए कुत्तों और बिल्लियों के वध पर रोक लगा दी है। यह विधेयक कुत्ता एवं बिल्ली मांस व्यापार निषेध कानून 2018 के नाम से पारित किया गया। इसका उल्लंघन करने पर 5,000  अमेरिकी डॉलर (3,50,000 रुपये) का जुर्माना लगाया जाएगा। बता दें कि चीन में हर साल इंसानों के भोजन के लिए एक करोड़ से अधिक कुत्‍तों को मार दिया जाता है।

क्‍या कहा गया है विधेयक में

वहीं एक अन्य प्रस्ताव में सदन ने चीन, दक्षिण कोरिया और भारत सहित सभी देशों से कुत्तों और बिल्लियों के मांस का व्यापार बंद करने का अनुरोध किया.

अमेरिकी कांग्रेस की सदस्य क्लाउडिया टेनी ने कहा, ‘कुत्ते और बिल्ली साथी और मनोरंजन के लिए होते हैं। इसे दुर्भाग्य ही कहेंगे कि चीन में हर साल इंसानों के भोजन के लिए एक करोड़ से अधिक कुत्तों को मार दिया जाता है।’ उन्होंने कहा, ‘इन चीजों के लिए हमारे करुणामय समाज में कोई स्थान नहीं है। यह विधेयक अमेरिका के मूल्यों को परिलक्षित करता है और सभी देशों को एक सख्त संदेश देता है कि हम इस अमानवीय और क्रूर बर्ताव का साथ नहीं देंगे।’

प्रस्‍ताव में की मांग

वहीं सदन ने एक प्रस्ताव में चीन, दक्षिण कोरिया, वियतनाम, थाइलैंड, फिलिपींस, इंडोनेशिया, कंबोडिया, लाओस, भारत और अन्य देशों की सरकारों से कुत्तों और बिल्लियों के मांस के व्यापार पर प्रतिबंध लगाने वाले कानून अपनाने और उसे लागू करने का अनुरोध किया है।

Related Post

चीनी मीडिया ने माना, साल 2017 में भाजपा के लिए बेहतर रहा ब्रांड मोदी

Posted by - December 28, 2017 0
चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर तारीफ नई दिल्ली। सीमा विवाद और आतंकवाद…

MICROSOFT की स्टडी का खुलासा, अपने सामाजिक संबंधों से लोगों को ज्यादा खतरा

Posted by - November 19, 2018 0
वॉशिंगटन। टेक जायंट माइक्रोसॉफ्ट ने ताजा स्टडी में खुलासा किया है कि भले ही सोशल मीडिया को खतरनाक बताया जा…

वैज्ञानिकों ने भारतीय बच्चों के खून को लेकर किया खतरनाक दावा, इस वजह से घट रही है बौद्धिक क्षमता

Posted by - October 15, 2018 0
टेक्सास । ऑस्‍ट्रेलिया में हुई एक ताजा रिसर्च ने भारतीय बच्‍चों के खून में बढ़ रही लेड की मात्रा पर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *