राहुल का जोरदार हमला – ‘जेटली बताएं माल्या को उन्होंने भगाया या मोदी का आदेश था !’

29 0

नई दिल्ली। शराब कारोबारी विजय माल्‍या द्वारा देश छोड़ने से पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात का दावा करने के बाद देश की सियासत अचानक और गरमा गई है। इस खुलासे के बाद कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार (13 सितंबर) को वित्‍त मंत्री अरुण जेटली पर जोरदार हमला बोला और उनके ऊपर गंभीर आरोप लगाए। उन्‍होंने जेटली से इस्तीफा मांगा है। राहुल ने बाकायदा प्रेस कांफ्रेंस कर दावा किया कि संसद में जेटली और माल्या की मुलाकात काफी अंतरंग थी, जिसे पीएल पुनिया ने देखा था।

क्‍या बोले कांग्रेस अध्‍यक्ष ?

राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘वित्‍त मंत्री संसद में माल्‍या से बात करते हैं। माल्‍या उनसे कहता है कि वह लंदन जाने वाला है, लेकिन अरुण जेटली इसकी सूचना ना तो देश को देते हैं और ना ही सीबीआई या ईडी जैसी एजेंसियों को। जेटली कहते हैं कि विजय माल्या ने अनौपचारिक तरीके से अप्रोच किया था, लेकिन सवाल यह है कि उन्होंने इसे अबतक छिपाए क्‍यों रखा? इससे साफ होता है कि इसमें कुछ मिलीभगत है और निश्चित रूप से इसमें कोई डील हुई है।’

पीएम मोदी पर भी साधा निशाना

राहुल गांधी ने इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी नहीं बख्‍शा। उन्‍होंने पीएम पर निशाना साधते हुए कहा, ‘प्रधानमंत्री ही इस सरकार में सबकुछ तय करते हैं। वित्‍त मंत्री जी देश को बताएं कि क्‍या उन्‍होंने विजय माल्‍या को भागने दिया था या फिर इसके लिए उनको प्रधानमंत्री जी की तरफ से आदेश आया था। जेटली जी लंबे-चौड़े ब्‍लॉग लिखते रहते हैं लेकिन उन्‍होंने कहीं भी इस बात का जिक्र नहीं किया।’ राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि इस मुलाकात से स्पष्ट है कि विजय माल्या देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली से अनुमति लेकर और सलाह लेकर देश से भागा है।

विजय माल्या के दावे के बाद जेटली पर सुब्रमण्यम स्वामी ने फोड़ा ‘ट्वीट बम’

गवाह के तौर पर लाए पुनिया को

कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा, ‘आज हम सबूत लाए हैं और वह सबूत हैं पीएल पुनिया, जिन्होंने संसद में माल्या और जेटली की मुलाकात देखी थी और यह कोई छोटी मुलाकात नहीं थी।’ इसके बाद पीएल पुनिया ने प्रेस कांफ्रेंस में दावा किया, ‘बजट सत्र के बाद 1 मार्च, 2016 को मैं संसद के सेंट्रल हॉल में बैठा था, तभी मैंने देखा कि अरुण जेटली और विजय माल्या खड़े होकर कोने में अंतरंग बातें कर रहे थे।  5-7 मिनट बाद सेंट्रल हॉल में बेंच पर भी दोनों बात करते दिखे थे। 3 तारीख को जब मीडिया में माल्या के विदेश भागने की खबर छपी तो मेरा रिएक्शन यही था कि 2 दिन पहले तो वह अरुण जेटली से मिले थे। जेटली ढाई साल तक इस पर रहस्य बनाए रहे। संसद में कई बार डिबेट हुई पर उन्होंने कभी भी जिक्र नहीं किया कि वह माल्या से मिले थे।’

पुनिया ने जेटली को दी चुनौती

पीएल पुनिया ने वित्‍त मंत्री अरुण जेटली को चुनौती देते हुए कहा, ‘सेंट्रल हॉल में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। 1 तारीख की फुटेज निकालकर देख ली जाए और जो झूठ बोल रहा हो वह राजनीति छोड़ दे।’ पुनिया ने कहा कि देश के विश्वास पर हमला किया गया है।

Related Post

कठुआ गैंगरेप-हत्या केस का ट्रायल अब पठानकोट में, सुप्रीम कोर्ट का आदेश

Posted by - May 7, 2018 0
सर्वोच्‍च अदालत ने मामले की जांच सीबीआई से कराने से किया इनकार, अगली सुनवाई अब 9 जुलाई को नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट…

भारत में कहीं भी बर्दाश्त नहीं किए जा सकते जिन्ना : योगी आदित्यनाथ

Posted by - May 3, 2018 0
लखनऊ। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के छात्रसंघ दफ्तर में पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर लगे होने से…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *