चीन ने भारतीय सीमा में फिर की घुसपैठ, उत्तराखंड में 4 KM अंदर तक घुसे चीनी सैनिक

110 0

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच पिछले काफी समय से सीमा को लेकर विवाद चल रहा है। चीन लगातार दोस्ती का दावा करता है लेकिन उसके कारनामे इसके उलट ही होते हैं। ITBP की एक ताजा रिपोर्ट के अनुसार, अब चीन ने उत्तराखंड के बाराहोती इलाके में घुसपैठ की है। बताया जा रहा है कि अगस्त के महीने में चीनी सैनिकों ने तीन बार भारतीय सीमा में घुसपैठ की। 

कहां हुई घुसपैठ ?

मीडिया रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि इसी साल अगस्त महीने में चीन की सेना पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने सेंट्रल सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा (Line of Actual Control – LAC) को तीन बार पार किया। चीनी सैनिक उत्तराखंड के बाराहोती में 4 किलोमीटर तक भीतर आ गए थे। ITBP सूत्रों के हवाले से मिली ख़बर के अनुसार, चीनी सेना ने 6 अगस्त, 14 अगस्त और 15 अगस्त को राहोती के रिमखिम पोस्ट के नज़दीक घुसपैठ की। बताया जा रहा है कि चीनी सेना 400 मीटर से लेकर 4  किलोमीटर तक अंदर घुस आई। ITBP के कड़े विरोध के बाद चीन के सैनिक और उनके नागरिक वापस गए थे.

पहले अरुणाचल में घुसे थे चीनी सैनिक

बता दें कि अप्रैल में जारी आईटीबीपी की रिपोर्ट में बताया गया था कि चीन ने अरुणाचल प्रदेश के उत्तरी पैंगोंग झील के पास गाड़ियों के जरिये 28 फ़रवरी, 7 मार्च और 12 मार्च, 2018 को घुसपैठ की थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि पैंगोंग झील के पास 3 जगहों पर चीनी सेना ने घुसपैठ की जिसमें वे लगभग 6 किलोमीटर तक अंदर घुस आए थे। आईटीबीपी जवानों के विरोध के बाद चीनी सैनिक वापस लौट गए। दरअसल, डोकलाम विवाद के बाद अब चीनी सेना अरुणाचल प्रदेश से सटी सीमा पर तनाव बढ़ाने की कोशिश कर रही है। उसने भारतीय सैनिकों के गश्त पर भी आपत्ति जताई।

Related Post

यूपी के इन पूर्व CM के पास हैं शानदार सरकारी बंगले, देते हैं महज कुछ हजार किराया

Posted by - May 18, 2018 0
लखनऊ। यूपी के सभी पूर्व सीएम को 15 दिन के भीतर अपने सरकारी बंगले खाली करने होंगे। दरअसल, यूपी मिनिस्टर्स…

मोटे बच्चों को लो फैट डाइट देने से बढ़ जाएंगे कैंसर में ज्यादा समय तक जिंदा रहने के चांस : स्टडी

Posted by - November 2, 2018 0
कैलिफोर्निया। अगर मोटे बच्चों को लो फैट डाइट दी जाए तो उनमें कैंसर में ज्यादा समय तक जिंदा रहने के…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *