स्टडी में खुलासा : Unlucky नहीं होता है ‘नंबर 13’,अपने मन से निकाल दीजिए डर

195 0

लंदन। हमारे समाज में अनेक ऐसे अंधविश्वास हैं, जो समाज को जकड़े हुए हैं और उन्हें निकालना बड़ा ही मुश्किल काम है। 13 नंबर को लेकर भी कुछ ऐसी ही धारणा है। 13 नंबर को केवल भारत में ही नहीं, बल्कि दुनिया के दूसरे कई देशों में भी अशुभ माना जाता है। लंदन के वैज्ञानिकों ने इस बारे में एक हॉस्पिटल में रिसर्च की है।

ऐसा मानते हैं लोग

13 नंबर को अनलकी माना जाता है। इसे triskaidekaphobia भी कहते हैं। विदेशों में शुक्रवार की 13 तारीख को लोग अपने घरों से बाहर निकलना पसंद नहीं करते। यहां तक कि होटलों में 13 नंबर के कमरे अक्सर होते ही नहीं हैं। हॉस्टल या घर लेते समय लोग 13 नंबर लेने से झिझकते हैं। उनके जेहन में इस बात का डर बैठा होता है कि कहीं कुछ अशुभ ना घटित हो जाए। साल 2010 में लंदन के St Thomas’s हॉस्पिटल ने तो अपने 2 वार्ड से 13 नबंर का बेड ही हटा दिया था, क्योंकि इस बेड पर पेशेंट्स जाने से घबराते थे।

ऐसे की गई स्टडी

ब्रिटेन के शोधकर्ताओं ने इस बारे में 2 साल तक स्टडी की। वैज्ञानिकों ने जनवरी 2015 और दिसंबर 2017 के बीच ब्रिस्टल में साउथमेड अस्पताल में आईसीयू के मरीजों के रिकॉर्ड्स देखे। इस दौरान यहां 13 नंबर बेड पर 110 मरीजों को एडमिट कराया गया था। 13 नंबर वाले मरीजों को दूसरे नंबर के बेड पर भर्ती मरीजों के साथ कंपेयर किया गया। स्टडी के दौरान पाया गया कि जो पेशेंट्स बेड नंबर 13 पर एडमिट थे, उनके ठीक होने की संभावना दूसरे नंबर वाले मरीजों की तुलना में कम नहीं थी। इसके आधार पर उन्होंने निष्‍कर्ष निकाला कि ये सिर्फ एक वहम है कि 13 नंबर से अशुभ होता है। उन्होंने बताया कि इस स्टडी की मदद से लोगों के मन से डर निकालना आसान होगा।

Related Post

शाहिद का इंस्टा और ट्विटर अकाउंट हैक, खिलजी व कटरीना को लेकर आपत्तिजनक पोस्ट

Posted by - September 7, 2018 0
मुंबई। बॉलीवुड स्टार शाहिद कपूर का  ट्विटर और इंस्टाग्राम अकाउंट 5 सितंबर को हैक कर लिया गया। तुर्की के एक हैकर ग्रुप ने शाहिद…

सुविधाओं की कमी पर अमरनाथ श्राइनबोर्ड को एनजीटी की फटकार

Posted by - November 15, 2017 0
 पूछा – तीर्थयात्रियों को बुनियादी सुविधाएं क्यों नहीं दीं, व्यावसायिक गतिविधियों को बढ़ावा देना गलत नई दिल्लीः प्रदूषण के बढ़ते स्तर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *