हैक हुआ आधार कार्ड का सॉफ्टवेयर, देश के 1 अरब लोगों का डाटा खतरे में

288 0
  • एक अंग्रेजी वेबसाइट हफपोस्ट इंडिया ने तीन महीने तक की गई जांच के बाद किया दावा

नई दिल्‍ली। आधार कार्ड की सुरक्षा को लेकर पिछले काफी समय से सवाल उठते रहे हैं, लेकिन अब आधार कार्ड से जुड़ी एक ऐसी खबर सामने आई है जो ना सिर्फ सरकार के लिए बल्कि आम जनता के लिए भी परेशानी का सबब बन सकती है। तीन महीने तक चले एक इन्‍वेस्टिगेशन में इस बात का दावा किया गया है कि आधार कार्ड का डाटा हैक हो गया है। इसके कारण भारत के करीब एक अरब लोगों की निजी जानकारी दांव पर लग गई है।

किसने किया दावा ?

बता दें कि एक अंग्रेजी वेबसाइट ‘हफपोस्ट इंडिया’ द्वारा की गई जांच में यह बात सामने आई है। जांच रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि एक सॉफ्टवेयर पैच है जो आधार आइडेंटिटी डेटाबेस में स्टोर डेटा की सिक्योरिटी को खतरे में डाल देता है। इसकी मदद से कथित तौर पर हैकर्स आधिकारिक आधार एनरोलमेंट सॉफ्टवेयर के सिक्‍योरिटी फीचर को बंद कर अनधिकृत आधार नंबर जनरेट कर रहे हैं।

कैसे संभव होता है ऐसा ?

जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि आधार कार्ड के सॉफ्टवेयर में एक गड़बड़ी है, जिसके कारण एक सॉफ्टवेयर के जरिए दुनिया के किसी भी कोने में बैठा व्यक्ति किसी के भी नाम से वास्तविक आधार कार्ड बना सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि UIDAI  ने जब टेलीकॉम कंपनियों और अन्य प्राइवेट कंपनियों को आधार का एक्सेस दिया था, उसी दौरान यह सुरक्षा खामी सामने आई और अब दुनिया के किसी भी कोने में बैठा व्यक्ति इसका गलत फायदा उठा सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पैच के जरिए यूजर महत्वपूर्ण सुरक्षा फीचर्स को दरकिनार किया जा सकता है, जिससे गैरकानूनी तरीके से वह आधार नंबर जनरेट किया जा सकता है।

तस्वीर से भी बनाना संभव

रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि एनरोलमेंट सॉफ्टवेयर की आंखों को पहचानने की संवेदनशीलता को भी पैच कमजोर कर देता है, जिससे सॉफ्टवेयर को धोखा देकर व्यक्ति की तस्वीरों से भी आधार कार्ड बनाया जा सकता है। यह पैच जीपीएस सुरक्षा फीचर्स को भी अक्षम बना देता है जिससे हैकर की लोकेशन ट्रेस नहीं की जा सकती है।

2,500 रुपये में आधार कार्ड

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कोई भी व्यक्ति 2,500 रुपये में आसानी से मिलने वाले इस पैच के जरिए दुनिया भर में कहीं भी आधार ID बना सकता है। साथ ही यूट्यूब पर भी कई वीडियो मौजूद हैं जिनमें एक कोड के जरिए किसी के भी आधार कार्ड से छेड़छाड़ कर नया आधार कार्ड बनाया जा सकता है। बता दें कि वेबसाइट की यह जांच ऐसे समय में सामने आई है जब सरकार हर नागरिक को बैंक अकाउंट से लेकर मोबाइल नंबर तक आधार कार्ड से जोड़ने पर जोर दे रही है।

कांग्रेस ने सरकार पर उठाए सवाल

उधर, कांग्रेस ने आधार के डेटाबेस में सेंध की खबर सामने आने के बाद सरकार पर सवाल उठाए हैं। पार्टी ने कहा कि विशिष्ट पहचान प्राधिकरण में दर्ज लोगों का डाटा खतरे में हैं। पार्टी ने मंगलवार (11 सितंबर) को एक ट्वीट में कहा, ‘आधार नामांकन सॉफ्टवेयर के हैक हो जाने से आधार डेटाबेस की सुरक्षा खतरे में आ सकती है। हम उम्मीद करते हैं कि अधिकारी भविष्य में नामांकनों को सुरक्षित करने और संदिग्ध नामांकन की पुष्टि के लिए उचित कदम उठाएंगे।

पहले भी उठे हैं सवाल 

बता दें कि जुलाई 2018 में फ्रांसीसी सुरक्षा विशेषज्ञ इलियट एल्डर्सन ने UIDAI से सवाल किया था कि क्यों UIDAI का हेल्‍पलाइन नंबर कई लोगों के फोन पर उनकी जानकारी के बिना दर्ज हो गया था। उस समय इस पर काफी विवाद हुआ था। अब इलियट एल्डर्सन ने एक बार फिर कहा है कि यूआईडीएआई डेटा में सेंध को रोकने के लिए हैकर्स के साथ काम करें। उन्होंने कहा, ‘मैं दोहराता हूं कि कोई भी चीज ऐसी नहीं है, जिसे हैक न किया जा सके। ये आधार पर भी लागू होता है। कभी भी बहुत देर नहीं होती, सुनिए और हैकर्स को धमकी देने की बजाय उनसे बात कीजिए।’ इससे पहले जनवरी 2018 में भी 500 रुपये देकर केवल 10 मिनट के अंदर करोड़ों आधार कार्ड की जानकारी हासिल करने का दावा किया गया था ।

UIDAI ने कहा – भ्रम फैला रहे कुछ लोग

यह रिपोर्ट सामने आने के बाद UIDAI ने एक बयान जारी करते हुए इसे बेबुनियाद और पूरी तरह गलत बताया है। उसने कहा कि कुछ लोग जान-बूझकर लोगों के मन में भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। UIDAI ने कहा है कि किसी भी डेटा को डिस्क में सेव करने से पहले जरूरी सुरक्षा उपायों को ध्यान में रखा जाता है। UIDAI ने स्पष्ट किया कि कोई भी ऑपरेटर आधार बना या अपडेट नहीं कर सकता है, जब तक कोई निवासी स्वयं अपनी बॉयोमेट्रिक डिटेल उसे ना दे दे। UIDAI ने ये भी कहा है कि उनके द्वारा सिस्टम में समयानुसार नए सिक्योरिटी फीचर्स को जोड़ा जाता है, ताकि किसी भी नए खतरे से बचा जा सके।

Related Post

‘100 करोड़ी’ बाबू के यहां रेड, विदेश में देने वाला था रिटायरमेंट पार्टी

Posted by - September 27, 2017 0
500 करोड़ की अवैध संपत्ति रखने के आरोप में फंसे सरकारी कर्मचारी गोल्ला वेंकटा रघुरामी रेड्डी के ठिकानों पर आंध्रप्रदेश एंटी करप्शन…

फोन पर लाइव टीवी देखने के लिए इंटरनेट की जरूरत नहीं, इन तरीकों से बिना डेटा खर्च करे देखिए

Posted by - September 25, 2018 0
नई दिल्ली। अब लोग स्मार्टफोन का इस्तेमाल सिर्फ कॉलिंग के लिए ही नहीं करते। लोग मूवी या टीवी देखने के…

कश्मीर मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र में पाक को भारत ने दिया करारा जवाब

Posted by - March 10, 2018 0
भारत ने लगाई पाकिस्तान को लताड़, कहा – असफल देश हमें अधिकार और लोकतंत्र का पाठ न पढ़ाएं संयुक्‍त राष्‍ट्र।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *