Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

5G के बारे में ये जरूरी बातें पता होनी चाहिए आपको, 1 सेकंड से भी कम वक्त में डाउनलोड होगी मूवी

67 0
नई दिल्ली। 5G नेटवर्क क्या है? 5G एक टेक्नॉलजी है जो आज से करीब 2 साल बाद फास्ट मोबाइल ब्रॉडबैंड नेटवर्क पर काम करेगी। 5G नेटवर्क 20Gbps की स्पीड देगी। अभी 4G नेटवर्क 1Gbps की ही स्पीड दे सकते हैं। पढ़िए इसके बारे में कुछ ऐसे फैक्ट्स जो पता होना बहुत जरूरी हैं। 
इंटरनेट में सबसे ज्यादा अपडेटेड 4 जी या चौथी जेनरेशन का स्पैक्ट्रम है। इसके अपडेट होने पर 5G लाया जाएगा। 5G से बड़े पैमाने पर स्पीड में अंतर आएगा। इससे डाउनलोडिंग स्पीड करीब 100 गुना ज्यादा हो जाएगी।
5G यूजर 3 घंटों की HD मूवी सिर्फ और सिर्फ 1 सेकंड से भी कम वक्त में डाउनलोड कर सकेंगे। आपने देखा होगा 4G में इस काम के लिए 10 मिनट लग जाते हैं।
5G नेटवर्क डेटा को 1 मिलीसेकंड से भी कम में डिलिवर कर देंगे जबकि अभी 4G नेटवर्क इसमें 70 मिलीसेकंड लेते हैं।
5G से लोग अपने घर को इलेक्ट्रॉनिक्स, सॉफ्टवेयर या सेंसर टेक्नॉलजी से लैस करके वायरलेस नेटवर्स से कनेक्ट कर सकते हैं। सबसे अच्छी बात ये है कि घर से सिक्यॉरिटी सिस्टम को वायरलेस नेटवर्क के जरिए दूर से ही कंट्रोल किया जा सकेगा।
फिलहाल 2019 तक बड़े स्केल पर 5G का ट्रायल शुरू हो जाएगा। 2020 के अंत तक 5G के लिए कम से कम दुनियाभर के 50 अरब डिवाइसेस को कनेक्ट करने की योजना है ताकि लोगों तक हर तरह की सूचनाएं पहुंचाई जा सके। एक्सपर्ट्स का मानना है कि भारत में 5G जैसी फास्ट वायरेलस टेक्नॉलजी लाने से पहले डेटा होस्टिंग और क्लाउड सर्विसेज के लिए रेग्युलेटरी कंडिशंस में बदलाव लाया जाना चाहिए।

Related Post

प्रसूताओं को होती है सरकारी अस्पतालों में तमाम परेशानी, यूपी में हुई स्टडी से खुलासा

Posted by - October 2, 2018 0
नई दिल्ली। मातृत्व स्वास्थ्य सेवा को बेहतर बनाकर भारत समेत विकासशील देशों में प्रसव के दौरान मौत की घटनाओं को…

स्टडी का नतीजा, समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चों के पेट में होते हैं कम बैक्टीरिया

Posted by - October 2, 2018 0
लंदन। वक्त से पैदा होने वाले बच्चों के आंतों में कम बैक्टीरिया मिलते हैं। अभी ये साफ नहीं है कि…

चीनी हैकरों ने चुराया यूएस नेवी का खुफिया डाटा, एंटी शिप मिसाइल फार्मूला भी उड़ाया

Posted by - June 10, 2018 0
हैकरों ने खुफिया प्रोजेक्ट (सी ड्रैगन), सिग्नल-सेंसर डाटा, पनडुब्बी की डेवलपमेंट यूनिट में भी लगाई सेंध चीनी हैकर्स पहले भी…

स्टडी : जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्री घोंघे के अस्तित्व पर मंडराया खतरा

Posted by - October 17, 2018 0
लंदन। जलवायु परिवर्तन के कारण दुनिया भर के समंदरों का पानी तेजी से अम्‍लीय हो रहा है, जिसके कारण समुद्री…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *