भारत में BAN हैं ये 4 एक्स्ट्रा बोल्ड फिल्में,अगर देखना चाहते हैं तो करना होगा ये काम

72 0

मुंबई। बॉलीवुड में हर तरह की फिल्म देखने को मिलती है लेकिन फिल्म को सेंसर बोर्ड से हरी झंडी मिलने के बाद ही थिएटर में देखा जाता है।कई बार विवादित कंटेंट या बोल्ड सीन्स की भरमार की वजह से फिल्में बैन हो जाती हैं। आज हम आपको ऐसी 5 फिल्मों के बारे में बताएंगे जो भारत में बैन हैं, लेकिन अगर आप इन्हें देखना चाहते हैं तो आपको ये काम करना होगा।

कामसूत्र 3डी – डायरेक्‍टर रूपेश पॉल ने 2013 में इस फ‍िल्‍म को बनाया था । इस फ‍िल्‍म में बोल्‍डनेस की सारी हदें टूटी हैं। यह फ‍िल्‍म कामुक सीन्‍स से भरी हुई है। जब ये फ‍िल्‍म सेंसर बोर्ड के पास प्रमाणन के पहुंची तो वहां से इसे हरी झंडी नहीं मिली। अगर आप इस फिल्म को देखना चाहते हैं तो इसे You-tube पर देख सकते हैं।

अनफ्रीडम- सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म पर इसलिए रोक लगा रखी है क्योंकि यह फिल्म दो लड़कियों के संबंधो पर आधारित फिल्म है। फिल्म में इतने संवेदनशील सीन्स हैं कि यह परिवार में बैठकर नहीं देखी जा सकती।इस फिल्म को राज अमित कुमार ने डायरे्क्ट किया था। यह फिल्म सिर्फ यू-ट्यूब पर ही उपलब्‍ध है।

बैंडिट क्वीन – यह फिल्म एक ऐसी औरत की कहानी पर आधारित है जिसकी समाज के कई लोगों ने आबरू लूटी और इस हादसे के बाद वह महिला फूलन देवी के रूप में चंबल घाटी में डाकू बनकर अपना बदला लेने लगी थी। फिल्म में आपत्तिजनक दृश्यों की भरमार थी। इस फिल्म को सिर्फ यू-ट्यूब पर देखा जा सकता है।

पांच – डायरेक्‍टर अनुराग कश्यप की फ‍िल्‍म पांच भी सेंसर बोर्ड द्वारा बैन की गई है। सेंसर बोर्ड ने इस फ‍िल्‍म को समाज के लिए खतरा करार द‍िया था। केके मेनन, आदित्य श्रीवास्तव, विजय मौर्या और तेजस्वनी कोल्हापुरी जैसे स्टार वाली यह एक क्राइम एडल्‍ट फ‍िल्‍म है। यह फिल्म सिर्फ यू-ट्यूब पर ही उपलब्‍ध है।

यूआरएफ प्रोफेसर- इस फिल्म में बोल्ड सीन्स की भरमार थी, इसलिए सेंसर बोर्ड ने इसे बैन कर दिया। फिल्म साल 2001 में रिलीज होनी थी। फिल्म के निर्माता पंकज आडवानी थे। इसे सिर्फ You-tube पर देखा जा सकता है।

Related Post

सूरत से पकड़े गए आतंकियों पर सियासी जंग, रुपाणी ने मांगा अहमद पटेल का इस्तीफा

Posted by - October 27, 2017 0
गुजरात के सीएम बोले – जिस अस्‍पताल से एक आतंकी पकड़ा गया, अहमद पटेल उसके ट्रस्‍टी हैं सूरत। सूरत से पकड़े…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *