ऑस्‍ट्रेलिया में हुआ शोध : आखिर तेज म्यूजिक पर क्यों थिरकने लगते हैं पैर ?

6 0

नई दिल्ली। अक्सर आपने देखा होगा कि जब भी तेज म्यूजिक बजता है, तब हमारे पैर अपने आप थिरकने लग जाते हैं। लेकिन ऐसा क्यों होता है ? क्या इसकी वजह जानते हैं आप ? ऑस्ट्रेलिया में इसी बात पर एक शोध किया गया। जानिए इसके क्या परिणाम सामने आए –

शोध में क्‍या आया सामने ?

शोधकर्ताओं ने अपने अध्‍ययन में पाया कि म्‍यूजिक सुनने के दौरान हमारे दिमाग में हरकत होती है। दिमाग की हरकत को समझने के लिए ‘इलेक्ट्रोएन्सेफेलोग्राफी’ नाम के एक यंत्र का इस्तेमाल किया गया। वास्‍तव में म्यूजिक पर पैरों का थिरकना उसके बेस (BASS) पर निर्भर करता है। रिसर्चर्स ने पाया कि दिमाग की हर हरकत धुन की आवृत्ति पर निर्भर करती है। अगर किसी गाने में बेस ज्यादा है तो पैर थिरकने के लिए ज्यादा मचलेंगे और लोग ज्यादा नाचेंगे। वहीं कम बेस वाले गाने लोगों को नाचने पर मजबूर नहीं कर पाते।

म्यूजिक थेरपी से इलाज भी संभव

वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि उनकी रिसर्च कई तरह के इलाज में मददगार साबित हो सकती है। कई जगह म्यूजिक थेरेपी के जरिए लोगों का डिप्रेशन दूर किया जा रहा है। इससे पहले अमेरिका में हुई रिसर्च में सामने आया था कि बच्‍चों की नेगेटिविटी, निराशा और इमोशंस संबंधी समस्याओं को म्यू्‍जिक थेरेपी के जरिए आसानी से दूर किया जा सकता है।

Related Post

सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, भारत में समलैंगिकता अब अपराध नहीं

Posted by - September 6, 2018 0
नई दिल्‍ली। भारत में दो वयस्कों के बीच समलैंगिक संबंध बनाना अब अपराध नहीं होगा। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार (6…

यहां ऑर्डर करेंगे चाय-कॉफी तो साथ में परोसा जाएगा सांप और अजगर, लोग लेते हैं selfie

Posted by - September 21, 2018 0
नोम पेन्ह। जरा सोचिए अगर चाय-कॉफी ऑर्डर करने पर आपको कैफे में उसके साथ सांप और अजगर भी परोस दिया जाए…

ऐश्वर्या को लगी तेजप्रताप के नाम की मेहंदी, शादी की रस्में शुरू

Posted by - May 10, 2018 0
चंद्रिका राय के आवास पर राबड़ी देवी सहित मौजूद थीं सातों बेटियां और दामाद पटना। राष्‍ट्रीय जनता दल प्रमुख और…

आओ पर्यावरण बचाएं : नवरात्रि पर कॉलेज में किया गया पौधरोपण

Posted by - March 24, 2018 0
खुटहा बाजार के टैगोर इण्टरमीडिएट कॉलेज में दर्जनों छात्र-छात्राओं ने कैम्‍पस में लगाए पौधे शिवरतन कुमार गुप्ता ‘राज़’ महराजगंज। वासन्तिक…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *