Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

कम एक्सरसाइज की वजह से दुनिया में 1.4 अरब लोग बीमारियों की जद में : डब्ल्यूएचओ

69 0

नई दिल्ली। कम एक्सरसाइज करने के कारण दुनियाभर के 1.4 अरब लोगों के स्वास्थ्य पर गंभीर बीमारियों का खतरा मंडरा रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बुधवार (5 सितंबर) को जारी अपने नए अध्ययन में इसकी चेतावनी दी है। ऐसे में अगर आप जरूरत से ज्‍यादा आरामतलब जीवनशैली अपनाते हैं तो यह आपकी सेहत के लिए ठीक नहीं है। आपको सावधान हो जाना चाहिए।

क्या कहती है रिपोर्ट

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अध्‍ययन के मुताबिक, दुनिया में हर तीन में से एक महिला और हर चार में से एक पुरुष शारीरिक रूप से कम सक्रिय रहते हैं। ‘द लैंसेट ग्‍लोबल हेल्‍थ’ में प्रकाशित इस अध्ययन के अनुसार, 2001 और 2016 के बीच दुनियाभर के 168 देशों में 1.9 मिलियन लोगों को शामिल किया गया था। अध्‍ययन में पता चला कि महिलाएं पुरुषों की तुलना में कम एक्टिव थीं और वैश्विक स्तर पर 8% (32% पुरुष बनाम 23%, महिलाएं) से अधिक का अंतर था। अध्‍ययन में कहा गया है कि शारीरिक गतिविधियां कम होने की वजह से हृदय रोग, कैंसर, मधुमेह, और मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी बीमारियां हो सकती हैं।

संपन्‍न देशों में कम एक्‍सरसाइज

गरीब देशों की तुलना में ब्रिटेन और अमेरिका जैसे संपन्न देशों 37 फीसद लोग एक्सरसाइज नहीं करते हैं। मध्य आय वर्ग वाले देश के लिए यह आंकड़ा 26 फीसद और निम्न आय वर्ग वाले देश के लिए यह 16 फीसद है। यानी गरीब देशों में सुविधा विहीन लोग अपनी जीविका के लिए ज्यादा काम करते हैं।

क्या कहना है रिसर्चर का

डब्ल्यूएचओ के इस अध्ययन की शोधकर्ता रेजिना गुथोल्ड ने कहा, दूसरी खरतनाक बीमारियों की तुलना में दुनियाभर में शारीरिक गतिविधियों का स्तर औसत के हिसाब से नहीं है। सभी वयस्कों में से एक चौथाई लोग अधिक अच्छे स्वास्थ्य के लिए शारीरिक गतिविधि के निर्धारित स्तर तक नहीं पहुंच रहे हैं। कई देशों में महिलाएं घर के कामकाज में इतना व्‍यस्‍त हो जाती हैं कि वे व्‍यायाम के लिए समय ही नहीं निकाल पातीं। यह स्थिति काफी चिंताजनक है। डब्ल्यूएचओ ने पर्याप्‍त शारीरिक गतिविधि के लिए दिशानिर्देश भी जारी किए हैं।

Related Post

फर्जी निकली महिला टी-20 टीम की कप्तान हरमनप्रीत की बीए की मार्कशीट

Posted by - July 3, 2018 0
जा सकती है डीएसपी की नौकरी, 2017 में अर्जुन अवार्ड से किया गया था पुरस्कृत मेरठ। भारतीय महिला टी-20 क्रिकेट टीम की…

दावोस में हर तरफ भारत की धूम, भारतीय कंपनियों के विज्ञापनों से पटा शहर

Posted by - January 23, 2018 0
दावोस। बर्फ की पहाड़ियों से घिरे  स्विट्जरलैंड के दावोस शहर में फिलहाल हर तरफ भारत के ही नजारे दिख रहे हैं।…

पूनम ने ब्लैक नाईटी में फोटोज शेयर कर लिखा कुछ ऐसा कि फैन्स हुए दीवाने

Posted by - July 26, 2018 0
मुंबई। बॉलीवुड में बतौर एक्ट्रेस पहचान बनाने वाली पूनम पांडेय अक्सर सोशल मीडिया पर अपनी हॉट और सेक्सी फोटो की वजह से…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *