दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ लगभग तैयार, 31 अक्टूबर को लोकार्पण

172 0

अहमदाबाद। भारत के पहले उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री सरदार वल्‍लभ भाई पटेल की स्‍मृति में गुजरात में बन रही ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का निर्माण कार्य लगभग पूरा हो गया है। पीएम नरेंद्र मोदी इसी साल 31 अक्टूबर को इसका लोकार्पण करेंगे। 2990 करोड़ रुपये की लागत से बन रही इस प्रतिमा का निर्माण सरदार सरोवर डैम में किया जा रहा है। इस काम में 2500 से ज्यादा मजदूर जुटे हैं। इनमें चीन के मजदूर भी शामिल हैं, जो इस स्टैच्यू को अंतिम स्वरूप दे रहे हैं।

स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से दोगुनी ऊंची है यह प्रतिमा

दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ की ऊंचाई 182 मीटर होगी। यह प्रतिमा वर्तमान में सबसे ऊंची चीन की बुद्ध की मूर्ति से भी ऊंची होगी। चीन के बुद्ध प्रतिमा की ऊंचाई 128 मीटर है। यही नहीं, ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ की ऊंचाई अमेरिका के ‘स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी’ से करीब दोगुनी होगी। हालांकि, 2021 में भारत में ही सरदार पटेल की प्रतिमा से भी बड़ा स्टैच्यू छत्रपति शिवाजी का होगा। इस समय इसका निर्माण मुंबई के तट पर किया जा रहा है। शिवाजी की प्रतिमा की ऊंचाई 212 मीटर होगी। बता दें कि सरदार पटेल और शिवाजी की प्रतिमा पर करीब 7086 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं।

मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है स्टैच्यू ऑफ यूनिटी 

बता दें कि वर्ष 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद इस प्रोजेक्ट की शुरुआत हुई थी। ये प्रधानमंत्री मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है। पीएम मोदी का मानना है कि ‘स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी’ की तरह ही पटेल की यह प्रतिमा सैलानियों के लिए भारत में आकर्षण का मुख्य केंद्र होगी। वर्ष 2013 में अपने चुनाव प्रचार के दौरान भी मोदी ने इसका जिक्र किया था और कहा था – ‘हर भारतीय को इस बात का दुख है कि सरदार पटेल भारत के पहले प्रधानमंत्री नहीं बने।’

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *