सिगरेट-शराब पीने वाले किशोर को 17 की उम्र में ही जाती है ये बीमारी, जानकर चौंक जाएंगे

88 0

मिशिगन। अमेरिका में हुई एक स्टडी में ये बात सामने आई है कि जो किशोर शराब और सिगरेट पीते हैं, उनकी आर्टरी को 17 साल की उम्र में ही नुकसान पहुंचने लगता है। इसकी वजह से आगे चलकर उन्हें स्ट्रोक और दिल का दौरा भी पड़ सकता है।

ऐसे की गई स्टडी

शोधकर्ताओं ने 2004 और 2008 के बीच 13, 15 और 17 साल की उम्र के 1,266 किशोरों को इस अध्‍ययन में शामिल किया। इन किशोरों से उनकी धूम्रपान और पीने की आदतों के बारे में पूछा गया। उनसे ये सवाल पूछे गए-

1. अब तक आप कितनी सिगरेट पी चुके हैं।

2. किस उम्र में आपने शराब पीना शुरू कर दिया था।

इसके बाद किशोरों के जवाब के आधार पर मिले डेटा का अध्ययन किया गया और जांच की गई कि उनकी आर्टरी को नुकसान पहुंचा है या नहीं।

शोध में क्या सामने आया

स्टडी में सामने आया कि जो लोग 100 से ज्यादा सिगरेट पी चुके थे उनकी आर्टरी को काफी नुकसान पहुंच चुका था। स्टडी में बताया गया कि अगर किशोर शराब और सिगरेट पीना बंद कर देते हैं तो उनकी आर्टरी फिर से सही हो जाती है। इस स्टडी को यूरोप हर्ट जर्नल में पब्लिश किया गया है।

क्या कहना है शोधकर्ताओं का

यूसीएल इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोवैस्कुलर साइंस में शोध करने वाली डॉ. मारिएता चरकीडा का कहना है कि अगर किशोर कम उम्र में ही शराब और सिगरेट पीना शुरू कर देते हैं वो उनके ब्लड वेसल्स को बहुत नुकसान पहुंचाता है। हालांकि कुछ अध्ययनों से भी पता चला है कि हाल के वर्षों में किशोर कम धूम्रपान कर रहे हैं। ऐसा देखा गया है कि जिस परिवार में लोग स्मोकिंग करते हैं, वहां किशोर भी स्मोकिंग करना शुरू कर देते हैं। अगर आप अपने दिल को नुकसान पहुंचने से बचाना चाहते हैं तो स्मोकिंग छोड़ देना बेहतर ऑप्शन है।

Related Post

गुजरात के वडोदरा में भीड़ ने बीजेपी पार्षद को पेड़ से बांधकर पीटा

Posted by - October 3, 2017 0
बापोद इलाके में झुग्गी झोपड़ी बस्ती में अतिक्रमण हटाने की मुहिम को लेकर लोगों में था आक्रोश वडोदरा। बीजेपी के…

वैश्विक उद्यमिता सम्मेलन में इतिहास से भी रूबरू होंगी इवांका

Posted by - November 23, 2017 0
हैदराबाद । अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप अगले सप्ताह यहां वैश्विक उद्यमिता सम्मेलन (जीईएस) में हिस्सा लेने…

रिसर्च : चिकनगुनिया की होगी तुरंत पहचान, भारतीय वैज्ञानिकों ने खोजी नई तकनीक

Posted by - October 5, 2018 0
नई दिल्‍ली। भारतीय वैज्ञानिकों ने बायोसेंसर आधारित एक ऐसी तकनीक विकसित करने में सफलता पाई है, जो चिकनगुनिया वायरस की…

छत्तीसगढ़: “धान के कटोरे” में दुर्दशाग्रस्त किसानों की सोचने वाला कोई नहीं !

Posted by - November 16, 2018 0
बलौदाबाजार। “धान का कटोरा” के नाम से दुनियाभर में प्रसिद्ध छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव के मतदान का एक दौर निबट…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *