हैवानियत : इलाहाबाद में दिनदहाड़े लाठी, डंडों व रॉड से पीटकर रिटायर दरोगा को मार डाला

179 0
  • संवेदनहीनता की हद : बदमाश सरेआम रिटायर दरोगा को पीटते रहे, लोग बगल से बाइक से गुजरते रहे

इलाहाबाद। शहर के शिवकुटी मोहल्‍ले में दबंगों ने 70 साल के रिटायर दरोगा की लाठी, डंडों और लोह के रॉड से दिनदहाड़े पीटकर हत्‍या कर दी। बीच सड़क पर हुई हत्या की यह घटना पास में ही लगे एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। पुलिस ने 10 लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कर एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

जमीन विवाद में हुई हत्‍या

अब्दुल समद यूपी पुलिस में दरोगा के पद से कुछ दिनों पहले ही रिटायर हुए थे। वह शिवकुटी मोहल्‍ले में अपने परिवार के साथ रहते थे। उनके पड़ोस में ही हिस्‍ट्रीशीटर जुनैद का मकान है। दोनों के बीच एक जमीन को लेकर लंबे समय से विवाद चल रहा था। इस बात को लेकर दोनों के बीच कई बार कहासुनी भी हुई थी। सोमवार को अब्दुल समद किसी काम से साइकिल से निकले थे। वह घर से कुछ ही दूर पहुंचे थे कि पहले से घात लगाए बैठे दबंगों ने उन्हें लाठी-डंडों से पीटना शुरू कर दिया।

बेहोश होने के बाद छोड़कर भागे

सीसीटीवी फुटेज में दिख रहा है कि पहले एक व्‍यक्ति अब्दुल को पीट रहा है। थोड़ी देर बाद ही दो लोग और आ जाते हैं, फिर तीनों मिलकर अब्‍दुल समद को पीटकर लहूलुहान कर देते हैं। जब उन्हें लगा कि अब्दुल की सांसें टूटने लगी हैं तो वे उन्हें उसी हालत में छोड़कर भाग निकलते हैं। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस और कुछ लोगों ने अब्दुल को अस्पताल में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

संवेदनहीन बने रहे लोग

जांच के दौरान जब पुलिस ने घटनास्थल के पास लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला तो लोगों की संवेदनहीनता सामने आई। फुटेज में साफ दिख रहा है कि दबंग अब्दुल को लाठी-डंटे से पीट रहे हैं और कुछ लोग खड़े तमाशा देख रहे हैं। यही नहीं, बाइक और स्‍कूटर से आते-जाते लोगों में से भी किसी ने दबंगों को रोकने की कोशिश नहीं की और पिटाई को नजरअंदाज करते हुए बगल से निकल गए। किसी ने रिटायर दरोगा को बचाने की कोशिश नहीं की।

हाईकोर्ट ने पुलिस को लगाई फटकार

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मंगलवार को (4 सितंबर) को इस जघन्‍य घटना पर पुलिस प्रशासन को जमकर फटकार लगाई। हाईकोर्ट ने पूछा कि जब रिटायर दरोगा को पीट-पीटकर हत्या करने वाले सीसीटीवी में नजर आए और पुलिस ने उनकी पहचान कर ली तो अब तक उनकी गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई ?  बता दें कि पुलिस ने तीन आरोपियों में से एक मोहम्मद यूसुफ को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि मृतक की बेटी की ओर से 10 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है। मुख्य आरोपियों में हिस्ट्रीशीटर जुनैद कमाल के बेटे शेबू और यूसुफ एवं एक रिश्तेदार इब्ने शामिल हैं।

Related Post

अब डाकिये के झोले में होगा बैंक, पीएम मोदी ने किया IPPB का उद्घाटन

Posted by - September 1, 2018 0
‘इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक’ की 650 शाखाओं और 3,250 डाकघरों में शुरू हुए सेवा केंद्र नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने…

इंसानों की गलती से शहरों में बंदरों का बढ़ रहा उत्पात, जान भी गंवा रहे लोग

Posted by - November 15, 2018 0
नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली समेत तमाम राज्यों में बंदरों का उत्पात दिनों-दिन बढ़ता ही जा रहा है। लोगों…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *