जेल में बंद कैदी ने ओडिशा के सीएम से मांगी 50 करोड़ फिरौती, हत्या की धमकी भी दी

159 0

बिलासपुर। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को बिलासपुर सेंट्रल जेल में बंद एक सजायाफ्ता कैदी ने चिट्ठी भेजकर 50 करोड़ रुपये की फिरौती मांगी है। फिरौती न देने पर उसने जान से मारने की धमकी दी है। कैदी ने फिरौती की रकम बिलासपुर सेंट्रल जेल के पते पर ही मंगाई है। कैदी पुष्पेंद्र नाथ चौहान हत्या और डकैती के जुर्म में  जेल में बंद है। धमकी भरा यह पत्र जब भुवनेश्वर स्थित मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंचा तो हड़कंप मच गया।

सुर्खियों में आने के लिए उठाया कदम

धमकी भरे इस पत्र के संबध में छत्तीसगढ़ के गृह विभाग से संपर्क किया गया। मामले को गंभीरता से लेते हुए जेल महानिदेशक गिरधारी नायक सोमवार (3 सितंबर) को बिलासपुर केंद्रीय जेल पहुंचे। गिरधर नायक ने खुद पुष्पेंद्र से करीब 45 मिनट तक पूछताछ की। पुष्‍पेंद्र ने पूछताछ में बताया कि वह खुद को चर्चा में लाना चाहता था, इसीलिए उसने पोस्ट के जरिए यह चिट्ठी भेजी थी। बता दें कि यह चिट्ठी मुख्‍यमंत्री नवीन पटनायक को 25 अगस्त को मिली थी। जेल अधीक्षक एसएस तिग्गा को आरोपी पुष्‍पेंद्र के खिलाफ एफआईआर कराने के निर्देश दिए गए हैं।

हाईकोर्ट जज समेत चार को पहले भी भेज चुका है चिट्ठी

डीजी (जेल) नायक ने कहा कि यह पहली मर्तबा नहीं है, जब उसने धमकी भरी चिट्ठी लिखी है। पुष्पेंद्र पहले भी चार लोगों को चिट्ठी लिखकर धमकी दे चुका है। इसके लिए उसे जेल मैनुअल के तहत 5-6 बार सजा दी जा चुकी है। पुष्पेंद्र ने इससे पहले छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के एक जज को भी चिट्ठी भेजी थी। तब जस्टिस ने खुद जेल आकर इसकी शिकायत की थी। जेल अधीक्षक एसएस तिग्गा के मुताबिक, पुष्पेंद्र पहले भी चार लोगों को चिट्ठी भेज चुका है, लेकिन तब फिरौती नहीं मांगी गई थी। बता दें कि पुष्पेंद्र जांजगीर चांपा जिले के दर्राभाठा का रहने वाला है। उस पर राज्य के कई जिलों में हत्‍या, लूट, डकैती समेत 42 मामले अदालत में विचाराधीन हैं। वह एक मामले में 7 साल और दूसरे मामले में 3 साल की सजा काट रहा है। वह 2009 से जेल में बंद है।

Related Post

पनामा केस में पाक के वित्त मंत्री डार के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट

Posted by - October 30, 2017 0
इस्‍लामाबाद। पनामा पेपर्स मामले से जुड़े भ्रष्‍टाचार के एक मामले में कोर्ट के समक्ष पेश नहीं होने पर पाकिस्‍तान के वित्त…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *