बाढ़ के बाद अब ‘रैट फीवर’ की गिरफ्त में केरल, दो दिन में 12 लोगों की मौत

44 0

तिरुवनंतपुरम। सदी की सबसे बड़ी त्रासदी से जूझ रहे केरल में बाढ़ के बाद यहां जलस्तर तो कम हुआ है, लेकिन वहां के लोगों की मुसीबतें कम नहीं हुई हैं। यहां पिछले दो दिनों में ‘रैट फ़ीवर’ यानी चूहे की वजह से होने वाली बीमारी से कम से कम 12 लोगों की मौत हो गई है। राज्य के कई हिस्सों में यह महामारी तेज़ी से फैल रही है। केरल सरकार ने इसके मद्देनजर तीन हफ्ते के लिए रेड अलर्ट जारी कर दिया है।

हालात काबू में होने का दावा

स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि हालात काबू में हैं, क्योंकि ये मौतें बाढ़ प्रभावित 13 में से 5 ज़िलों में हुई हैं। ये वही पांच ज़िले हैं, जो बाढ़ से सबसे ज़्यादा प्रभावित हुए हैं। रैट फीवर के खौफ को देखते हुए राज्य में तीन हफ्ते के लिए हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि राज्‍य के कोझिकोड और पथानमतिट्टा जिलों में 71 और लोग लेप्टोस्पायरोसिस (रैट फीवर) से ग्रस्त पाए गए हैं, जबकि 123 लोगों में इस बीमारी के लक्षण मिले हैं।

कैसे होती है यह बीमारी

विशेषज्ञों का कहना है कि लेप्टोस्पायिरो एक बैक्‍टीरिया है, जो चूहों में पाया जाता है। बाढ़ के दौरान जब चूहे भीग जाते हैं, तब ये बैक्टीरिया इंसानों में पहुंच जाता है। बाढ़ के दौरान इसका खतरा बढ़ जाता है। कासरगोड जिले को छोड़कर बारिश और बाढ़ से राज्य के अन्य सभी 13 जिले प्रभावित हुए हैं। राज्य में लगभग 20 लाख लोग बाढ़ के पानी के संपर्क में आए हैं जिसके कारण सरकार को इन लोगों से जरूरी उपचारात्मक कदम उठाने के लिए कहना पड़ा है।

डॉक्सीसाइक्लिन की गोलियां लेने की सलाह

राज्य सरकार ने ऐहतियात के तौर पर बाढ़ प्रभावित लोगों से डॉक्सीसाइक्लिन की टेबलेट लेने को कहा है। डॉक्‍टरों का कहना है कि बाढ़ के पानी के संपर्क में आने वाले लोगों को कम से कम एक हफ़्ते तक डॉक्सीसाइक्लिन की गोलियां और पेंसिलिन का इंजेक्शन लेना चाहिए। स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि दवा न लेने वाले लोगों को बुख़ार और मांसपेशियों में दर्द की शिकायत हो रही  है।

Related Post

अमानुल्‍ला का निलंबन रद्द, केजरीवाल व विश्‍वास में फिर छिड़ी जंग

Posted by - October 30, 2017 0
कुमार विश्वास बोले – अमानतुल्ला सिर्फ मुखौटा, साजिश के पीछे कोई और ही आम आदमी पार्टी के ओखला से विधायक अमानतुल्ला…

दुबई से भारत लाया गया दाऊद का खास फारूक टकला, मुंबई बम कांड में था हाथ

Posted by - March 8, 2018 0
उसके खिलाफ हत्या, फिरौती और आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने का भी आरोप मुंबई। 1993 में मुंबई में हुए बम…

लखनऊ की सड़कों पर इस वजह से मर्द और औरतें अचानक मुंडवाने लगे सिर

Posted by - July 25, 2018 0
लखनऊ .लखनऊ में आज बुधवार को शिक्षक/शिक्षामित्र एसोशिएसन के बैनर तले नियुक्ति की मांग को लेकर आलमबाग के पास इकोगार्डन…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *