Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

जैन मुनि तरुण सागर ने 51 साल की उम्र में ली अंतिम सांस, पीएम ने जताया शोक

494 0

नई दिल्ली।  पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे जैन मुनि तरुण सागर का 51 वर्ष की अवस्‍था में  शनिवार (1 सितंबर) सुबह निधन हो गया। उन्होंने दिल्‍ली के शाहदरा के कृष्णानगर में तड़के 3:18 बजे अंतिम सांस ली।तरुण सागर को डॉक्टरों ने अपनी निगरानी में रखा था। देशभर से श्रद्धालु उनके प्रवास स्थल पर जुटने लगे हैं। जैन मुनि का अंतिम संस्कार दोपहर 3 बजे दिल्ली-मेरठ हाईवे स्थित तरुणसागरम तीर्थ पर होगा।

इलाज कराने से कर दिया था इनकार

दरअसल,  तरुण सागर को पीलिया हो गया था, जिसके बाद उन्हें दिल्ली के ही एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बताया जा रहा है कि उन पर दवाओं का असर होना बंद हो गया था। इसके बाद जैन मुनि ने इलाज कराने से इनकार कर दिया और कृष्णानगर स्थित राधापुरी जैन मंदिर चातुर्मास स्थल पर जाने का फैसला किया। बता दें कि जैन मुनि तरुण सागर का जन्‍म मध्य प्रदेश के दमोह में 26 जून, 1967 को हुआ था। उनकी मां का नाम शांतिबाई और पिता का नाम प्रताप चंद्र था। तरुण सागर ने आठ मार्च, 1981 को घर छोड़ दिया था। इसके बाद उन्होंने छत्तीसगढ़ में दीक्षा ली।

जलेबी खाते-खाते तरुण सागर बने जैन मुनि, 1981 में छोड़ दिया था घर

पीएम मोदी ने जताया गहरा दुख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जैन मुनि के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘जैन मुनि तरुण सागर के निधन का समाचार सुनकर गहरा दुख पहुंचा। हम उन्हें हमेशा उनके प्रवचनों और समाज के प्रति उनके योगदान के लिए याद करेंगे। मेरी संवेदनाएं जैन समुदाय और उनके अनगिनत शिष्यों के साथ हैं।’  वहीं केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘जैन मुनि श्रद्धेय तरुण सागर जी महाराज के असामयिक महासमाधि लेने के समाचार से मैं स्तब्ध हूँ। वे प्रेरणा के स्रोत, दया के सागर एवं करुणा के आगार थे। भारतीय संत समाज के लिए उनका निर्वाण एक शून्य का निर्माण कर गया है। मैं मुनि महाराज के चरणों में अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ।’

अपने बयानों को लेकर रहते थे चर्चा में

जैन मुनि तरुण सागर अपने बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहते थे। जैन मुनि ने देश की कई विधानसभाओं में प्रवचन दिया।  हरियाणा विधानसभा में उनके प्रवचन पर काफी विवाद भी हुआ था। इसके बाद संगीतकार विशाल डडलानी के एक ट्वीट ने काफी बवाल खड़ा कर दिया था। मामला बढ़ता देख विशाल को माफी भी मांगनी पड़ी थी। इस विवाद के बाद आम आदमी पार्टी से जुड़े संगीतकार डडलानी ने राजनीति से खुद को अलग कर लिया था।

Related Post

अब न्यू कैलेडोनिया के पूर्वी भाग में 7.3 तीव्रता का भूकंप

Posted by - November 20, 2017 0
सिडनी: न्यू कालेडोनिया के पूर्वी भाग में आज 7.3 तीव्रता का तेज भूकंप आया. यह देश प्रशांत क्षेत्र के टेक्नोनिक रूप से सक्रिय…

पूरी तौर पर संतुष्ट होने के लिए हर बार महिला को चाहिए होता है इतनी देर SEX

Posted by - September 28, 2018 0
लंदन। सेक्स एक प्राकृतिक क्रिया है, लेकिन दुनिया के हर हिस्से में ऐसी महिलाएं कम ही हैं, जिन्हें उनके पार्टनर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *