सीएम योगी आदित्यनाथ ने मथुरा के लोगों को बताया ‘बंदरों से बचने’ का अनोखा फार्मूला

147 0

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने शुक्रवार को भगवान श्रीकृष्ण की नगरी मथुरा में कई परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। जनता को संबोधित करने के दौरान जब उनसे क्षेत्र में बंदरों की समस्‍या पर चर्चा की गई तो उन्‍होंने मथुरावासियों को इनसे बचने के लिए एक अनोखा फार्मूला सुझाया।

कौन सा बताया फार्मूला ?

दरअसल, जब मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ ब्रजवासियों के बीच अपनी सरकार के विकास का बखान कर रहे थे, उसी दौरान उन्हें बताया गया कि मथुरा के लोगों को बंदर बहुत परेशान कर रहे हैं। इस पर योगी ने उन्‍हें बंदरों से बचने का अनूठा मंत्र दिया। उन्‍होंने कहा, ‘बंदरों पर अत्याचार मत करो। बजरंग बली की आरती करना शुरू करो, हनुमान चालीसा का का पाठ करो, बंदर कभी नुकसान नहीं पहुंचाएंगे।’

संस्‍मरण भी सुनाया योगी ने

इस दौरान सीएम योगी ने एक संस्मरण भी सुनाया। उन्‍होंने बताया, ‘जब मैं गोरखपुर में कार्यालय में काम कर रहा था तो एक बंदर मेरी गोद में आकर बैठ जाता था। मैंने कर्मचारी से भंडारे से केला मंगाकर उसे दिया। अगले दिन फिर उसी समय बंदर आया तो मैंने फिर फल दिया। फिर यह उसका रोजाना का नियम बन गया  कि मेरी गोदी में आकर बैठ जाता था और फल लेकर चला जाता था। एक बार एक कार्यकर्ता ने यह देखकर गुस्से में कहा कि क्या महाराजजी ये आपने बंदर को क्यों गोद में बैठा रखा है। अगले दिन जब वह कार्यकर्ता आया तो बंदर ने उसकी धोती पकड़ ली और उसे काटने को भी तैयार हो गया। यह देखकर मैंने बंदर को डांटा तो बंदर पेड़ पर चढ़ गया।’ इस संस्‍मरण के माध्यम से योगी आदित्यनाथ ने समझाया कि वह बंदर पालतू नहीं था, जंगली था, इसलिए बंदरों को भगाने का काम मत करो। बंदर से प्रेम करोगे तो वह आपके लिए समस्या नहीं, बल्कि वह आपके लिए लाभदायक बन जाएंगे।

Related Post

चर्चित सीडी कांड में पत्रकार विनोद वर्मा को दो महीने बाद मिली जमानत

Posted by - December 28, 2017 0
60 दिन के भीतर कोर्ट में चार्जशीट पेश नहीं कर पाई सीबीआई रायपुर। छत्तीसगढ़ के मंत्री की कथित सीडी मामले में…

बीजेपी का राहुल पर हमला, रविशंकर बोले- हिंसा रोकने की अपील क्यों नहीं की

Posted by - April 3, 2018 0
नई दिल्ली। केंद्रीय कानून मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने एससी/एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *