Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

दावे हुए फुस्स, इन्सेफेलाइटिस से बच्चों की मौत रोकने में नाकाम रही योगी सरकार

128 0

लखनऊ। यूपी के पूर्वांचल में हर साल बारिश के मौसम में बच्चों की जान लेने वाली खतरनाक जापानी इन्सेफेलाइटिस बीमारी कहर बरपाती है। कोई साल ऐसा नहीं बीतता, जब इस बीमारी से सैकड़ों बच्चे असमय मौत के मुंह में न समाते हों। योगी आदित्यनाथ की सरकार ने जब यूपी में कामकाज संभाला था, तो दावा किया था कि हर हाल में जापानी इन्सेफेलाइटिस से होने वाली मौतों को रोका जाएगा, लेकिन हकीकत में सरकार का ये दावा फुस्स हो गया है।

सरकार ने खुद माना मौतों की संख्या बढ़ी

योगी सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने विधानसभा में पूछे गए एक सवाल के जवाब में बताया कि साल 2017 में बीते वर्षों के मुकाबले जापानी इन्सेफेलाइटिस (जेई) और एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) से मरने वाले बच्चों की संख्या में इजाफा हुआ है।

ये हैं एईएस और जेई के आंकड़े

योगी सरकार ने बताया है कि 2017 में यूपी में एईएस और जेई के 5400 मामले सामने आए। इनसे 748 बच्चों की मौत हुई। जबकि, साल 2016 में कुल 4353 मामलों में 715 बच्चों की जान गई थी।

इस साल अब तक कम है आंकड़ा

इस साल 9 अगस्त तक एईएस और जेई के 1427 मामले सामने आए हैं और 111 बच्चों की मौत हुई है, लेकिन ये बीमारी चूंकि अगस्त से अक्तूबर के बीच ज्यादा बड़े पैमाने पर होती है। इस वजह से 2018 में मौतों का सही आंकड़ा अगले साल ही पता चल सकेगा। यूपी सरकार का कहना है कि जेई के मुकाबले एईएस से ज्यादा मौतें होती हैं। साल 2016 और 2017 में एईएस की वजह से ही 90 फीसदी मौतें हुईं थीं। इस साल अब तक हुई मौतों में 108 एईएस और 3 जेई की वजह से हुई हैं।

Related Post

कश्मीर के पुलवामा और कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों ने मार गिराए 4 आतंकी

Posted by - June 29, 2018 0
पुलवामा में मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी, 16 साल के लड़के की मौत श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा और कुपवाड़ा जिले…

खगोल विज्ञानियों को सौरमंडल के बाहर दूसरी दुनिया का पता चला, मिला पहला चंद्रमा

Posted by - October 5, 2018 0
न्यूयॉर्क। खगोल विज्ञानियों को हब्बल और केपलर अंतरिक्ष दूरबीनों की सहायता से हमारे सौरमंडल के बाहर की दुनिया का पता लगाने…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *