रिसर्च: माथे की लकीरें देती हैं असमय मौत का संकेत, जानिए आपको कहीं खतरा तो नहीं

132 0

नई दिल्ली। भविष्य बताने वाले तमाम लोग माथे की लकीरें भी पढ़ते हैं। ऐसे लोग दावा करते हैं कि माथे की लकीरें देखकर वे बता सकते हैं कि संबंधित व्यक्ति आगे क्या करेगा और उसका हाल कैसा रहेगा। इसे हम दकियानूसी समझते हैं, लेकिन एक रिसर्च से पता चला है कि माथे की लकीरें ये संकेत भी देती हैं कि कहीं हम असमय ही तो मौत का निवाला नहीं बनने जा रहे।

कम उम्र में माथे की गहरी लकीरें खतरनाक
जर्मनी के म्यूनिख में यूरोपियन सोसाइटी ऑफ कार्डियोल़जी कांग्रेस में पेश की गई नई रिसर्च के मुताबिक कम उम्र में माथे पर गहरी लकीरें पड़ना खतरे का संकेत हैं। इस रिसर्च के मुताबिक इन लकीरों से पता चल सकता है कि धमनियों को कठोर बनाने वाली अथेरोस्लेरॉसिस बीमारी हो रही है या नहीं। बता दें कि इस बीमारी से असमय मौत होने का खतरा होता है।

इस तरह गहरी होती हैं माथे की लकीरें
रिसर्च करने वालों के अनुसार माथे में मौजूद खून वाली नसें प्लैक बनने के प्रति ज्यादा संवेदनशील होती हैं। ऐसे में लकीरें अगर गहरी हो रही हैं, तो पता चलता है कि आपकी उम्र बढ़ रही है। साथ ही कोलाजन प्रोटीन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस की वजह से भी माथे की लकीरें गहरी होती जाती हैं।

3200 लोगों पर रिसर्च
रिसर्च में 3 हजार 200 लोगों के माथे की लकीरों की जांच की गई। सबको माथे पर लकीरों की संख्या और उनके गहरेपन के मुताबिक 0 से 3 तक नंबर दिए गए। 20 साल तक इन लोगों की जांच के बाद पता चला कि जिनके माथे पर लकीरें ज्यादा थीं, उनको दिल की बीमारी होने का खतरा ज्यादा था। ऐसे लोगों में अचानक मौत का खतरा भी 10 गुना ज्यादा रहा।

बचाव के उपाय
अगर माथे पर लकीरें गहरी हो रही हैं, तो बैलेंस्ड डाइट लें। लाइफस्टाइल में व्यायाम को शामिल करें और हार्ट स्पेशलिस्ट से भी तुरंत संपर्क करने की जरूरत है।

Related Post

विवेक हत्याकांड : आरोपी दोनों पुलिस वाले बर्खास्त, जांच के लिए एसआईटी गठित

Posted by - September 29, 2018 0
लखनऊ। राजधानी के सबसे पॉश इलाके गोमतीनगर में शुक्रवार (28 सितंबर) की देर रात एप्‍पल के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी…

प्रद्युम्न मर्डर : घर पहुंचा अशोक, बोला- जबरन कबूल कराया गया जुर्म

Posted by - November 23, 2017 0
गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुए प्रद्युम्न मर्डर केस में गिरफ्तार आरोपी बस कंडक्टर अशोक कुमार 76 दिनों तक…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *