पीएम मोदी की कथित हत्या की साजिश में 5 एक्टिविस्ट गिरफ्तार, 5 राज्यों में छापे

67 0
  • भीमा कोरेगांव हिंसा के सिलसिले में हुई सभी लोगों की गिरफ्तारी, नक्‍सलियों से संपर्क का आरोप

नई दिल्‍ली। भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच के दौरान पुणे पुलिस द्वारा बरामद किए गए एक पत्र में नक्सलियों द्वारा पीएम मोदी की हत्या की साजिश का खुलासा हुआ था। इसी मामले की जांच करते हुए पुणे पुलिस ने मंगलवार (28 अगस्‍त) को पांच राज्‍यों महाराष्ट्र, गोवा, झारखंड, तेलंगाना और दिल्ली में छापेमारी की और 5 लोगों को गिरफ्तार किया है।

किस-किस की हुई गिरफ्तारी ?

पुणे पुलिस ने वामपंथी सुधा भारद्वाज को उनके फरीदाबाद स्थित आवास से गिरफ्तार किया, वहीं कवि और वामपंथी विचारक वरवर राव को हैदराबाद से गिरफ्तार किया गया। वामपंथी विचारक अरुण फरेरा और वर्णन गोनजाल्विस भी हिरासत में लिए गए हैं। पुलिस ने मानव अधिकार एक्टिविस्‍ट और पत्रकार गौतम नवलखा को दिल्‍ली से हिरासत में लिया है। इनके अलावा रांची में स्टेन स्वामी से पूछताछ की गई है। इन मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के पास से लैपटॉप, पेन ड्राइव और कागजात बरामद किए गए हैं। उधर, दिल्ली हाईकोर्ट ने गौतम नवलखा की ट्रांजिड रिमांड पर रोक लगा दी है और उन्‍हें बुधवार यानी कल सुनवाई होने तक नजरबंद रखने का आदेश दिया है।

क्‍या है भीमा  कोरेगांव मामला ?

बता दें कि भीमा कोरेगांव युद्ध की 200वीं वर्षगांठ के दौरान नए साल के पहले दिन पुणे में दलित समूहों और दक्षिणपंथी हिंदू संगठनों के बीच संघर्ष हो गया था, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। 31 दिसंबर, 2017 को पुणे में एलगार परिषद का आयोजन किया गया था। इस परिषद के दूसरे दिन यानी 1 जनवरी, 2018 को भीमा कोरेगांव  में हिंसा हुई थी। हिंसा के लिए एलगार परिषद के आयोजन पर भी आरोप लगाया गया था।

जून में हुई थी पांच लोगों की गिरफ्तारी

भीमा-कोरेगांव हिंसा की जांच कर रही पुणे पुलिस ने जून माह में रोना जैकब विल्सन, सुधीर ढावले, सुरेंद्र गाडलिंग, शोमा सेन और महेश राउत को गिरफ्तार किया था। विल्सन को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था, ढावले को मुंबई से, जबकि गाडलिंग, शोमा सेन और महेश राउत को नागपुर से गिरफ्तार किया गया था। इनके लिंक प्रतिबंधित कम्‍युनिस्‍ट पार्टी ऑफ इंडिया (माओवाद) से बताए गए थे। पुलिस का कहना है कि विल्सन के दिल्ली के मुनिरका स्थित फ्लैट से एक पत्र बरामद किया गया था।

क्या लिखा था पत्र में ?

भीमा कोरेगांव मामले की जांच के दौरान पुणे पुलिस को एक आरोपी रोना विल्‍सन के घर से ऐसा पत्र मिला था, जिसमें ‘राजीव गांधी की हत्या’ जैसी प्लानिंग का जिक्र किया गया था। पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने की बात कही गई है। इस पत्र में ही वरवर राव का नाम सामने आया था।

भड़के राहुल गांधी, बोले – ‘देश में सिर्फ RSS को जगह’

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने विभिन्न वामपंथी विचारकों, सामाजिक और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘देश में सिर्फ एक एनजीओ के लिए जगह है और वो RSS है। सभी एनजीओ बंद कर दिए जाएं और सभी कार्यकर्ताओं को जेल में डाल दिया जाए। शिकायत करने वालों को गोली मारो। नए भारत में आपका स्वागत है।’

नागरिक स्‍वतंत्रता पर हमला : माकपा

उधर, मार्क्‍सवादी कम्‍युनिस्‍ट पार्टी (माकपा) ने पुणे पुलिस की छापेमारी की कार्रवाई की निंदा करते हुए इसे सरकार की दमनकारी नीतियों का नतीजा बताया। पार्टी ने कहा कि इस कार्रवाई के दौरान पुलिस इनके घर से लैपटॉप, मोबाइल फोन और अन्य निजी दस्तावेज भी ले गई। पोलित ब्यूरो ने इसे नागरिक स्वतंत्रता और लोकतांत्रिक अधिकारों पर हमला बताते हुए इस कार्रवाई की कड़ी निंदा की है।

Related Post

धान की इस नई प्रजाति पर बैक्‍टीरिया के हमलों का नहीं होगा असर

Posted by - June 17, 2018 0
हैदराबाद के भारतीय चावल अनुसंधान के वैज्ञानिकों ने विकसित की सांबा मंसूरी धान की नई प्रजाति नई दिल्‍ली। हैदराबाद स्थित…

हैक हुआ आधार कार्ड का सॉफ्टवेयर, देश के 1 अरब लोगों का डाटा खतरे में

Posted by - September 11, 2018 0
एक अंग्रेजी वेबसाइट ‘हफपोस्ट इंडिया’ ने तीन महीने तक की गई जांच के बाद किया दावा नई दिल्‍ली। आधार कार्ड की सुरक्षा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *