19 साल से घर के 7th फ्लोर पर खेती करती हैं दीपाली, सालों से नहीं खरीदीं सब्जियां

167 0

नई दिल्ली। ज्यादातर महिलाओं को गार्डनिंग का शौक होता है। यह जरूर है कि समय के अभाव के कारण कई बार यह शौक पूरा नहीं हो पाता है। दीपाली शाहलोत कानपुर की रहने वाली हैं। दूसरी महिलाओं की तरह उन्हें हमेशा से ही गार्डनिंग का बहुत शौक था, लेकिन इस शौक को उड़ान तब मिली जब वो कानपुर में 6th फ्लोर की एक बिल्डिंग में रहने लगीं।

किया ये काम

जब दीपाली 19 साल पहले 6th फ्लोर पर शिफ्ट हुईं वो वहां एक बड़ी छत थी। उन्‍होंने छत पर फल और सब्जियां लगाने की सोची। बस यहीं से उनके शौक को उड़ान मिली। दीपाली ने अपने टैरेस को पूरी तरह से वाटरप्रूफ करवा लिया ताकि सीलन आदि की समस्या न हो। इसके बाद उन्होंने अपने छत को दो भागों में बांट दिया, जहां उन्होंने फल और सब्जियों के पौधे लगाए।

क्या कहना है उनका

दीपाली ने बताया कि मैंने छत पर कई तरह की सब्जियां लगाईं, जैसे पालक, टमाटर, प्याज, भिंडी, नींबू इत्‍यादि। इसके अलावा उन्होंने कई तरह के फल भी लगाए। फल और सब्जियों में उन्होंने कभी भी केमिकल वाली खाद का इस्तेमाल नहीं किया। उन्होंने बताया कि ये तरीका उन्‍होंने अपनी मां से सीखा है। उन्हें खेती करने का बहुत शौक था।

बांट देती हैं सब्जियां

दीपाली उगाए गए फल और सब्जियों को कहीं बेचती नहीं हैं, बल्कि घर में काम करने लोगों को बांट देती हैं। काफी सालों से उन्होंने मार्केट से कोई सब्जी नहीं खरीदी है। उनका कहना है कि इस काम में उनकी फैमिली उनका सपोर्ट करती है।

Related Post

बहराइच से नेपाल जाने वाली ट्रेन का इंजन पटरी से उतरा

Posted by - September 27, 2017 0
करीब ढाई घंटे बाद रवाना हो सकी गोंडा-नेपालगंज पैसेंजर, सैकड़ों यात्री हुए परेशान देवमणि मिश्र बहराइच। यूपी में आए दिन ट्रेनों…

राममंदिर पर श्री श्री की मध्यस्थता को लेकर हिंदू महासभा में फूट

Posted by - October 31, 2017 0
अखिल भारत हिंदू महासभा के महासचिव मुन्ना शर्मा ने जहां श्री श्री रविशंकर के कदम को राजनीति से प्रेरित बताते…

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने यीस्‍ट से बनाया बैज, जो बचाएगा रेडिएशन से

Posted by - August 16, 2018 0
नई दिल्ली। वैज्ञानिकों ने रेडिएशन से बचने के लिए खमीर (Yeast) से एक माइक्रोब्रुअरी बैज तैयार किया है। ये रेडिएशन…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *