सरकारी नौकरी चाहता है ‘यंग इंडिया’, इस परीक्षा के लिए आए ढाई करोड़ आवेदन

108 0

नई दिल्ली। सरकारी नौकरी की चाहत किसे नहीं होती। आज का युवा चाहता है कि पढ़ाई पूरी करने के बाद उसे सरकारी नौकरी मिल जाए। वह भी किसी सरकारी महकमे का हिस्सा बने। लोगों के बीच सरकारी नौकरी को लेकर कुछ बातें बड़ी आम हैं, जैसे सरकारी नौकरी का मतलब है सुकून की नौकरी। भारतीय रेलवे द्वारा आयोजित ऑनलाइन भर्ती परीक्षा के लिए इस महीने लाखों लोगों ने आवेदन किया।

दुनिया की सबसे बड़ी परीक्षा

रेलवे भर्ती बोर्ड (RRB) द्वारा आयोजित की जा रही यह दुनिया की सबसे बड़ी परीक्षाओं में से एक है। RRB को लगभग 1 लाख 20,000 रिक्तियों के लिए 2 करोड़ 40 लाख से अधिक आवेदन प्राप्त हुए हैं। सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डेवलपिंग सोसाइटीज (CSDS) के लोकनीति रिसर्च प्रोग्राम द्वारा आयोजित राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिनिधि युवा सर्वेक्षणों के डेटा से पता चलता है कि 2016 में सरकारी नौकरी पसंद करने वाले युवाओं का हिस्सा बढ़कर 65% हो गया है।

ऐसे की गई स्टडी

CSDS ने भारत के 10 सबसे अधिक आबादी वाले शहरों (दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, हैदराबाद, बेंगलुरू, अहमदाबाद, जयपुर, सूरत और पुणे) में यह सर्वेक्षण किया है। ये शहर 8 राज्यों में फैले हुए हैं। इसके अलावा 11 अन्य राज्यों के सबसे अधिक आबादी वाले शहरों में सर्वेक्षण किया गया। सभी समूहों में कॉलेज-शिक्षित ग्रामीण युवाओं (82%) के बीच सरकारी नौकरियां पहली प्राथमिकता पर हैं। दूसरी तरफ, जो युवा प्राइवेट सेक्टर में काम करना चाहते हैं, वो नौकरी में संतुष्टि या अच्छी आय को पहली प्राथमिकता देते हैं।

Related Post

छत्तीसगढ़ में सुरक्षाबलों ने ढेर किए 7 नक्सली, मरने वालों में 3 महिलाएं

Posted by - July 19, 2018 0
रायपुर। छत्तीसगढ़ में सुरक्षाबलों ने अहम कार्रवाई करते हुए 7 नक्सलियों को मार गिराया है। इनमें 3 महिलाएं भी शामिल…

जेल में थे श्रीसंत तो किचन में सोती थी वाइफ, बैन के वक्त पत्‍नी ने इस तरह दिया साथ

Posted by - September 17, 2018 0
नई दिल्ली। स्पॉट फिक्सिंग मामले में आजीवन प्रतिबंध झेल रहे एस श्रीसंत अब बिग बॉस 12 का हिस्सा हैं। घर…

लुप्त होने के कगार पर हैं भारत की 183 बोलियां, 7 राज्यों में ज्यादा खराब हालात

Posted by - December 3, 2018 0
नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन यानी यूनेस्को ने भारत की 183 बोलियों पर संकट का इशारा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *