रिसर्च: अभी तो केरल डूबा, आने वाले समय में बड़े इलाके में हो सकती है तबाही

180 0

नई दिल्ली। विशेषज्ञों के मुताबिक केरल में भीषण बाढ़ की बड़ी वजह जलवायु परिवर्तन है। उनका कहना है कि ये तो सिर्फ ट्रेलर है। आने वाले वक्त में भारत के बड़े इलाके में बारिश की वजह से केरल से भी बड़ा नुकसान हो सकता है।

लगातार बढ़ रही गरमी बनी वजह
बीते 10 साल में जलवायु परिवर्तन की वजह से धरती पर गरमी बढ़ी है। विशेषज्ञों का कहना है कि इसी वजह से दक्षिण और मध्य भारत में मॉनसून की बारिश भी काफी ज्यादा हो रही है। बता दें कि औद्योगिक क्रांति यानी कल-कारखानों के लगने के बाद से धरती के औसत तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी हो चुकी है। वर्ल्ड बैंक की साउथ एशिया हॉटस्पॉट रिपोर्ट का लब्बोलुआब भी यही है कि इसी तरह गरमी बढ़ती रही, तो भारत में सालाना तौर पर औसत तापमान में डेढ़ से तीन डिग्री तक का इजाफा हो सकता है।

नुकसान होगा और चौतरफा होगा
वर्ल्ड बैंक की साउथ एशिया हॉटस्पॉट रिपोर्ट के अनुसार बढ़ते तापमान से बारिश ज्यादा हुई, तो इससे भारत की आधी आबादी पर भयानक असर पड़ेगा और जीडीपी भी 2.8 फीसदी गिर जाएगी।

डूब सकते हैं कई शहर
एक अन्य रिसर्च कहती है कि अगर वातावरण में कार्बन और अन्य गैसों का उत्सर्जन नहीं रोका जा सका, तो गरमी और भारी बारिश की वजह से पूर्वोत्तर भारत के तमाम हिस्से इस सदी के अंत तक इंसानों के रहने लायक नहीं बचेंगे। साथ ही समुद्र के किनारे बसे कई शहरों के पानी में समा जाने का खतरा भी होगा। बता दें कि 2017 तक के आंकड़ों को देखें, तो 68 साल में मॉनसून के दौरान बाढ़ से 69 हजार लोग भारत में जान गंवा चुके हैं। जबकि, बेघरों का आंकड़ा 1 करोड़ 70 लाख है।

Related Post

रोहिंग्या पर वीडियो पोस्ट करने पर छिना म्यांमार की सुंदरी से ताज?

Posted by - October 4, 2017 0
म्यांमार : म्यांमार की एक सुंदरी श्वे यान शी का कहना है कि रोहिंग्या मुस्लिम चरमपंथियों पर एक ग्राफिक वीडियो…

बीजेपी का राहुल पर हमला, रविशंकर बोले- हिंसा रोकने की अपील क्यों नहीं की

Posted by - April 3, 2018 0
नई दिल्ली। केंद्रीय कानून मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने एससी/एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *