किसान का बेटा नहीं बनना चाहता किसान, दूसरे सेक्टर्स में कॅरियर बना रहे हैं युवा

192 0

नई दिल्ली। आपने देखा होगा अक्सर डॉक्टर का बेटा डॉक्टर बनना चाहता है, इंजीनियर का बेटा इंजीनियर, व्यापारी का बेटा व्यापारी, पर क्‍या किसान का बेटा अपने देश में किसान बनना चाहता है ? शायद नहीं। एक स्टडी के अनुसार, देश के ज्यादातर किसान परिवारों के युवा किसान नहीं बनना चाहते।

नेशनल सैंपल सर्वे ने की स्टडी

नेशनल सैंपल सर्वे ने किसी भी निष्कर्ष तक पहुंचने से पहले ग्रामीण लोगों की सोच को समझने के लिए एक स्टडी की। इस बारे में जमीन के मालिक और उनके बच्चों के बात की गई। स्टडी में लोगों के आवासीय स्थान, भूमि अधिग्रहण, शिक्षा, जाति, धर्म आदि को भी ध्यान में रखा गया। स्‍टडी के बाद नेशनल सैंपल सर्वे ऑफिस ने एक डेटा तैयार किया जिसमें सामने आया कि 1999-2000 की तुलना में 2007-08 में ग्रामीण प्रवासन में 34% से 39% वृद्धि हुई। इससे ये बात सामने आई कि ग्रामीण क्षेत्रों में खेती से आय के स्रोत में गिरावट आई है। 2011 की जनगणना के मुताबिक, पहले 95.8 मिलियन लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती थी, लेकिन अब धीरे-धीरे इसमें कमी आई है।

दूसरे सेक्टर को चुन रहे युवा

आज के इस दौर में युवा पढ़ाई-लिखाई कर मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करना चाहते हैं या फिर सरकारी नौकरी करना चाहते हैं, लेकिन कोई भी युवा खेती-बाड़ी करना नहीं चाहता। 2011 की जनगणना के मुताबिक, हर दिन 2 हजार लोग खेती छोड़ रहे हैं। ज्यादातर युवा अब खेती नहीं करना चाहते हैं। स्टडी में पाया गया कि कृषि का अध्ययन करने वाले 80-90% ऐसे छात्र जो किसी न किसी तरह खेती से जुड़े हुए हैं, वो दूसरे सेक्टर में कॅरियर बनाना चाहते हैं। कृषि विश्वविद्यालयों और संस्थानों में लगभग 0.4 मिलियन छात्रों ने नामांकन कराया है लेकिन उनमें से 70 से 80 प्रतिशत लोगों ने बैंक सेक्टर को चुन लिया है। इस बदलाव का कारण संचार क्रांति और संरचनात्मक परिवर्तनों को माना जा रहा है। ट्राई के 2017 के आंकड़े के अनुसार, ग्रामीण क्षेत्रों में दूरसंचार की पहुंच 52.43% लोगों तक हो गई है।

Related Post

SC/ST एक्ट पर कोर्ट की तल्ख टिप्पणी – ‘…इसका मतलब हम सभ्य समाज में नहीं रहते’

Posted by - May 16, 2018 0
सुप्रीम कोर्ट ने कहा – ‘अनुच्‍छेद-21 में जीवन के मौलिक अधिकार के खिलाफ संसद भी नहीं बना सकती कानून’ केन्द्र…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *