Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

मॉब लिंचिंग : SC ने राजस्थान सरकार से पूछा – रकबर की हत्या मामले में अबतक क्या किया?

96 0

नई दिल्ली। अलवर में कथित गोरक्षकों द्वारा पिछले महीने रकबर खान की हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान सरकार से एक हफ्ते में जवाब मांगा है। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन जजों की पीठ ने राज्‍य सरकार के खिलाफ दायर अवमानना याचिका पर सुनवाई करते हुए प्रमुख सचिव गृह को एक हफ्ते में हलफनामा दाखिल कर बताने को कहा है कि इस मामले में क्या कार्रवाई की गई। मामले की अगली सुनवाई अब 30 अगस्त को होगी।

क्‍या कहा सर्वोच्‍च अदालत ने ?

सुप्रीम कोर्ट की चीफ जस्टिस की अगुवाई वाली पीठ ने सोमवार (20 अगस्त) को राजस्‍थान के गृह विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी को हलफनामा दाखिल करने का आदेश दिया और यह बताने को कहा कि अलवर लिंचिंग मामले में सरकार ने अबतक क्या एक्शन लिया है। अदालत ने कहा कि इस हलफनामे में लिंचिंग से जुड़े सभी पहलुओं की चर्चा होनी चाहिए। वहीं दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों से भी मॉब लिंचिंग को लेकर अनुपालन रिपोर्ट दाखिल करने को कहा है। इस मामले में 7 सितंबर को अगली सुनवाई होगी।

किसने दायर की है याचिका ?

दरअसल, अलवर मॉब लिंचिंग मामले में तुषार गांधी और कांग्रेस नेता तहसीन पूनावाला की ओर से सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका की गई है। अदालत इसी अवमानना याचिका पर सुनवाई कर रही थी। इस याचिका में अलवर में भीड़ द्वारा पीट-पीटकर हत्या मामले में राजस्थान सरकार के खिलाफ अवमानना की कार्रवाई करने की मांग की गई थी। याचिकाकर्ताओं का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देशों के बावजूद मॉब लिंचिंग जारी है और कथित गौरक्षक अब भी उत्पात मचा रहे हैं। राज्य सरकार ने इस मामले में रिपोर्ट फाइल करने के लिए वक्त मांगा है।

पिछली सुनवाई पर क्‍या कहा था कोर्ट ने ?

बता दें कि पिछली सुनवाई पर 17 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने मॉब लिंचिंग की घटना पर कड़ी प्रतिक्रिया दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने इस घटना को ‘भीड़तंत्र का भयानक कदम’ बताया था और टिप्पणी की थी कि ऐसे तत्वों को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जा सकती है। अदालत ने इस मामले में संसद को भी ताकीद की थी और मॉब लिंचिंग, गौरक्षा के नाम पर उत्पात मचाने वाले लोगों के खिलाफ कड़ा कानून बनाने को कहा था। उस दिन सुप्रीम कोर्ट ने दूसरी राज्य सरकारों को 7 सितंबर तक इस मुद्दे पर उठाए गए कदमों का ब्‍योरा देने को कहा था।

क्या है अलवर मामला ?

राजस्थान के अलवर जिले के रामगढ़ थाना क्षेत्र के लालवंडी गांव में गो तस्करी के आरोप में कुछ कथित गोरक्षकों ने 20 जुलाई को रकबर खान नामक एक शख्स को पीटकर मार डाला था। रकबर खान की मौत के मामले में राज्य की पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगे हैं। आरोप है कि पुलिस ने रकबर को अस्पताल पहुंचाने की जगह बरामद गायों को पहले गौशाला पहुंचाया। इसकी वजह से रकबर को अस्पताल पहुंचाने में तीन घंटे की देरी हुई और उसकी मौत हो गई।

Related Post

आइरिस ने बिखेरा अपने हुस्न का जलवा, सोशल मीडिया पर बोल्ड फोटोज से लगाई आग

Posted by - July 21, 2018 0
मुंबई। टीवी एक्ट्रेस और मॉडल आइरिस माइती अपने लुक को लेकर अक्सर ख़बरों का हिस्सा बनी रहती हैं। हाल ही में…

यूपी के हर लोकसभा क्षेत्र में 100-100 दिव्यांगों को मिलेगी मोटराइज्ड ट्राइसाइकिल

Posted by - February 4, 2018 0
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिव्यांगों के लिए किया बड़ा ऐलान, आसान हो जाएगी जिंदगी गोरखपुर में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *