मच्छर के खून चूसने से इंस्पायर हुए वैज्ञानिक, बना रहे हैं पेनलेस इंजेक्शन

120 0

नई दिल्ली। मच्छर काटने का दर्द सब सह लेते हैं, लेकिन सुई (Injection) का दर्द सहना थोड़ा मुश्किल होता है। लेकिन अभी तक जिन लोगों को सुई लगवाने में डर लगता है, अब उन्हें इससे डर नहीं लगेगा। शोधकर्ता एक ऐसा इंजेक्‍शन बनाने में जुटे हैं, जिसे लगाने से दर्द महसूस नहीं होगा। दरअसल, उन्‍हें यह प्रेरणा मच्छरों के काटने से मिली।

ऐसे आया आइडिया

ये शोध इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (आईआईटी) रोपड़ और अमेरिका की ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी के सहयोग से हो रहा है। स्टडी के को-ऑथर नवीन कुमार कहते हैं, ‘पेनलेस इंजेक्‍शन का आइडिया हमें मच्छरों से आया। जैसे मच्‍छर हमें कब काट लेते हैं इसका पता नहीं चलता, उसी तरह यह इंजेक्‍शन भी काम करेगा। यह एक नई तरह की रिसर्च है और यह उन मरीजों के लिए मददगार साबित होगी जिन्हें सुई चुभने से डर लगता है। अब तक हमने सिर्फ एक टेक्नॉलजी विकसित की है लेकिन इस तरह का कोई डिवाइस नहीं बनाया गया है। भविष्य में हम इस तरह की डिवाइस या सुई बना सकते हैं जो हमारी टेक्नॉलजी पर आधारित होगी।’

कैसे करेगा काम ?

शोधकर्ताओं ने मच्छर के डंक पर आधारित बिना दर्द वाली माइक्रो-सुइयां तैयार की हैं। शोधकर्ताओं का दावा है कि इसका इस्तेमाल करने से दर्द नहीं होगा। वैज्ञानिकों की कोशिश रहेगी कि वे माइक्रोनिडिल के अंदर 2 सुई डालें। इनमें से एक सुई के जरिए शरीर में तुरंत सुन्न कर देने वाला एजेंट पहुंच जाएगा, जबकि दूसरी सुई से शरीर से खून निकाला जा सकेगा या फिर दवा को शरीर में इंजेक्ट किया जाएगा। अगर यह तकनीक सफल रही तो जल्द ही अस्पतालों में आपको ये सुइयां मिलने लगेंगी।

कैसे खून चूसता है मच्छर ?

मच्छर खून चूसने के लिए खास तरीके का इस्तेमाल करता है। मच्छर के पास खून चूसने के लिए सुई जैसी तीखा डंक होता है जिसे proboscis कहते हैं। मच्छर डंक को स्किन में घुसा कर खून चूस लेता है। खून चूसने के दौरान मच्छर अपनी लार हमारी स्किन पर छोड़ देता है। मच्छर लार इसलिए छोड़ता है, ताकि उसके सुई जैसे डंक में खून न जमने पाए और वो आसानी से खून पी सके। मच्‍छर काटने वाली जगह पर जलन और खुजली मच्छर की छोड़ी गई लार की वजह से ही होती है, न कि उसके डंक की वजह से।

Related Post

WOW: चूहे हुए ठीक, अब अल्जाइमर पीड़ित भी हो सकेंगे स्वस्थ

Posted by - March 27, 2018 0
लंदन। क्लीवलैंड क्लीनिक लर्नर रिसर्च इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्होंने चूहों में अल्जाइमर बीमारी को ठीक…

फारूक बोले – जिन्ना नहीं, नेहरू और पटेल की वजह से हुआ बंटवारा

Posted by - March 5, 2018 0
केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा – दोबारा इतिहास पढ़ें फारूक अब्‍दुल्‍ला जम्‍मू। नेशनल कांफ्रेंस के अध्‍यक्ष फारूक अब्‍दुल्‍ला ने एक…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *