अखिलेश यादव को बड़ा झटका, हाईकोर्ट ने होटल निर्माण पर लगाई रोक

181 0

लखनऊ। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने राजधानी में बन रहे अखिलेश यादव के होटल के निर्माण पर रोक लगा दी है। हाईकोर्ट ने मामले का स्‍वत: संज्ञान लेते हुए राज्‍य सरकार से भी इस बारे में जवाब मांगा है। हाईकोर्ट ने यूपी सरकार से पूछा है कि आखिर हाई सिक्‍योरिटी जोन में होटल निर्माण की अनुमति कैसे दी गई ? हाईकोर्ट ने मामले में जनहित याचिका दायर करने वाले शिशिर चतुर्वेदी को सुरक्षा उपलब्‍ध कराने के भी निर्देश दिए हैं।  इस मामले में अब अगली सुनवाई 5 सितंबर को होगी।

क्‍या है मामला ?

उल्‍लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सरकारी बंगला खाली करने वाले पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव अपनी पत्‍नी डिंपल यादव के साथ मिलकर लखनऊ में अपना होटल खोलना चाहते हैं। हिबिस्‍कस हेरीटेज नामक उनका यह होटल वीआईपी एरिया 1ए विक्रमादित्‍य मार्ग पर बनना है। यह मामला तब सामने आया, जब दोनों की ओर से होटल का नक्‍शा पास कराने के लिए लखनऊ विकास प्राधिकरण (LDA) में जुलाई में आवेदन किया गया। इसके बाद LDA ने उनके प्रस्‍तावित होटल के संशोधित मानचित्र पर अनापत्ति (NOC) के लिए विभिन्‍न विभागों को पत्र लिखा था।

13 लोगों को बनाया गया है पार्टी

इस मामले में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, सांसद डिंपल यादव, सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव, जनेश्वर मिश्र समेत कुल 13 लोगों को पार्टी बनाया गया है। बता दें कि अधिवक्‍ता शिशिर चतुर्वेदी ने यह याचिका दायर की थी। इस याचिका में कहा गया है कि नियमों का उल्‍लंघन कर होटल को हाई सिक्‍योरिटी जोन में बनाया जा रहा है।

Related Post

अश्विन के नाम सबसे तेज़ 300 विकेट लेने का वर्ल्‍ड रिकॉर्ड

Posted by - November 27, 2017 0
ऑस्ट्रेलिया के महान डेनिस लिली का रिकॉर्ड तोड़ा, यह कारनामा करने वाले भारत के पांचवें गेंदबाज नागपुर। भारत ने श्रीलंका…

Thugs की शूटिंग के वक्त अमिताभ बच्‍चन की टूट गई थीं हड्ड‍ियां, फिर भी नहीं रोकी शूटिंग

Posted by - September 29, 2018 0
मुंबई। ‘ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान’ का दमदार ट्रेलर हाल ही में रिलीज हुआ है। ट्रेलर में आमिर और अमिताभ की जबरदस्त…

चीन ने अरुणाचल में फिर की घुसपैठ, टाटू में बनाए घर और टेली कम्युनिकेशन टॉवर

Posted by - March 31, 2018 0
नई दिल्ली। अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है, लेकिन चीन अक्‍सर अरुणाचल प्रदेश पर अपना हक जमाने की कोशिश…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *