WHO के ये मानक पूरे हो जाएं तो 4 साल बढ़ जाएगी भारतीयों की उम्र

36 0

नई दिल्ली। भारत अगर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के वायु गुणवत्ता मानकों को पूरा कर लेता है तो भारतीयों की औसत उम्र करीब चार साल बढ़ सकती है। यह बात एक नए अध्ययन में सामने आई है। अध्‍ययन में कहा गया है कि वायु प्रदूषण से भारत को हर साल सिर्फ 5 खरब डॉलर यानी करीब 350 खरब रुपये का नुकसान उठाना पड़ता है।

किसने किया अध्‍ययन ?

यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो और हार्वर्ड कैनेडी स्कूल के शोधकर्ताओं ने यह अध्ययन किया है। ‘रोडमैप टुवर्ड्स क्लीनिंग इंडियाज एयर’ नाम से किया गया यह अध्ययन 66 करोड़ ऐसे भारतीयों के जीवन पर आधारित है जो देश के सबसे ज्यादा प्रदूषित इलाकों में रहते हैं। शोधकर्ताओं ने भारत में गंभीर वायु प्रदूषण पर चिंता जताई है और बताया है कि इस वजह से देश में लाखों लोग बीमार पड़ते हैं और समय से पहले उनकी मौत हो जाती है। शोधकर्ताओं के एक समूह ने इस मुद्दे से पार पाने के लिए कई कदम उठाने का सुझाव दिया है।

क्‍या दिए गए सुझाव ?

अध्ययन में प्रदूषण से निजात पाने के लिए जो सुझाव दिए गए हैं उनमें उत्सर्जन पर रियल टाइम डेटा उपलब्‍ध कराना और लोगों को प्रदूषण पैदा करने वाले कारकों के बारे में जानकारी देना शामिल है। यही नहीं, अत्याधिक उत्सर्जन करने वालों पर जुर्माना लगाने का भी सुझाव दिया गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के गुणवत्ता मानकों के अनुसार, फाइन पार्टिकल मैटर (PM2.5) सालाना स्तर पर 10ug/m3 के बीच रहना चाहिए और रोजाना इसका स्तर 25ug/m3 तक होना चाहिए। वहीं, PM10 का स्तर सालाना 20ug/m3 और 24 घंटे में 50 ug/m3 के बीच होना चाहिए।

प्रदूषित क्षेत्रों में रहते हैं 66 करोड़ लोग

अध्ययन में कहा गया है कि 66  करोड़ से अधिक भारतीय ऐसे क्षेत्रों रहते हैं जहां सूक्ष्म कण पदार्थ पीएम 2.5 का स्‍तर सुरक्षित माने जाने वाले मानक से अधिक है। इसको दूर करने का कोई आसान समाधान नहीं है। ग्रीनपीस की एक रिपोर्ट के अनुसार, देश में हर साल वायु प्रदूषण से 12 लाख से ज्‍यादा लोगों की असमय मौत हो जाती है। यह बच्‍चों और महिलाओं के लिए ज्‍यादा खतरनाक साबित हो रहा है। अध्ययन में कहा गया है कि अगर भारत  WHO द्वारा बताई गई इन सिफारिशों को लागू कर वायु गुणवत्ता के मानकों को पूरा करता है तो भारतीय औसतन लगभग 4 साल अधिक जी सकेंगे।

Related Post

अब पहले पता चल जाएगा कहां आने वाला है भूकंप, वैज्ञानिकों ने खोजी तकनीक

Posted by - September 9, 2018 0
न्‍यूयॉर्क। दुनिया में कई जगह काफी विनाशकारी भूकंप आए हैं, जिनके चलते हजारों जानें गईं और करोड़ों का नुकसान हुआ।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *