प्राइवेट अस्पतालों में सीजेरियन डिलीवरी की संख्या सरकारी से दोगुनी, जम्मू-कश्मीर पहले नंबर पर

79 0

नई दिल्ली। सिजेरियन डिलीवरी इन दिनों आम होती जा रही है। कई बार डिलीवरी में कॉम्प्लिकेशन की वजह से भी सिजेरियन तकनीक का सहारा लेना पड़ता है। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की रिपोर्ट के अनुसार, देश में सी-सेक्शन यानी सिजेरियन डिलीवरी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इस मामले में जम्मू-कश्मीर पहले नंबर पर है।

क्‍या है रिपोर्ट में
नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के अनुसार, प्राइवेट अस्पतालों में 40.9% डिलीवरी सी-सेक्शन से होती है, वहीं सरकारी अस्पतालों में केवल 11.9% डिलीवरी सी-सेक्शन से होती है। रिपोर्ट के मुताबिक, जम्मू-कश्मीर के प्राइवेट अस्पतालों में सिजेरियन के जरिए 75.5 प्रतिशत और सरकारी अस्पतालों में 35.1 प्रतिशत बच्‍चे पैदा होते हैं। दूसरे राज्यों की बात करें तो तेलंगाना में प्राइवेट में 74.5 प्रतिशत और सराकारी में 40.3 प्रतिशत, त्रिपुरा में प्राइवेट में 73.7 और सरकारी में 18.1, वेस्ट बंगाल में प्राइवेट में 70.9 प्रतिशत और सरकारी में 18.8 प्रतिशत, आंध्र प्रदेश में प्राइवेट में 57 और सरकारी में 25.5 प्रतिशत, ओडिशा में प्राइवेट में 53.7 प्रतिशत और सरकारी में 11.5 प्रतिशत, असम में प्राइवेट में 53.3 और सरकारी में 12.9 प्रतिशत, गोवा में प्राइवेट में 51.3 और सरकारी में 19.9 प्रतिशत, तमिलनाडु में प्राइवेट में 51.3 और सरकारी में 26.3 प्रतिशत, सिक्किम में प्राइवेट में 49.3 और सरकारी में 18.1 प्रतिशत, छत्तीसगढ़ में प्राइवेट में 46.6 और सरकारी में 5.7 प्रतिशत, मणिपुर में प्राइवेट में 46.2 और सरकारी में 22.6 प्रतिशत, हिमाचल प्रदेश में प्राइवेट में 44.4 और सरकारी में 16.4 प्रतिशत, दिल्ली में प्राइवेट में 41.5 और सरकारी में 6.5 प्रतिशत, मध्य प्रदेश में प्राइवेट में 41.5 और सरकारी में 6.5 प्रतिशत, झारखंड में प्राइवेट में 39.5 और सरकारी में 4.6 प्रतिशत, उत्तर प्रदेश में प्राइवेट में 31.3 और सरकारी में 4.7 प्रतिशत, बिहार में प्राइवेट में 31 और सरकारी में 2.6 प्रतिशत बच्चे सिजेरियान पैदा होते हैं।

किस वजह से होती है सिजेरियन डिलीवरी

गर्भवती महिला का ब्लड प्रेशर बढ़ने या दौरा पड़ने की स्थिति में डिलीवरी के लिए ऑपरेशन किया जाता है। ऐसा न करने से दिमाग की नसें फटने और लिवर-किडनी खराब होने का खतरा रहता है। सामान्य तौर पर छोटे कद वाली महिलाओं की सिजेरियन डिलीवरी होती है। बच्चे की धड़कन कम होने, गले में गर्भनाल लिपटी होने, बच्चे के तिरछे होने, खून का दौरा सही तरीके से होने, इन स्थितियों में सिजेरियन डिलीवरी ही की जाती है।

Related Post

एयरपोर्ट पर इन 10 दस्तावेजों में से एक दिखाने पर ही मिलेगी एंट्री

Posted by - October 28, 2017 0
नई दिल्ली. एविएशन सिक्योरिटी ब्यूरो ने एयरपोर्ट में एंट्री के लिए 10 पहचान पत्रों को अनिवार्य कर दिया है. ब्यूरो पहचान…

हाईकोर्ट की सख्ती के बाद गोरखपुर मंडल के 1055 धार्मिक स्थलों पर संकट !

Posted by - February 24, 2018 0
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यूपी में अवैध ढंग से बने धार्मिक स्थलों को हटाकर दो महीने में रिपोर्ट देने को कहा गोरखपुर।…

गृहमंत्री बोले – एसएससी पेपर लीक मामले की होगी सीबीआई जांच

Posted by - March 5, 2018 0
राजनाथ सिंह ने कहा – प्रदर्शनकारी छात्र अब घर जाएं और सीबीआई की रिपोर्ट का इंतजार करें नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री…

उन्नाव रेप केस : हाईकोर्ट का आदेश – आरोपी विधायक को डिटेन नहीं, गिरफ्तार करें

Posted by - April 13, 2018 0
इलाहाबाद। उन्नाव रेप केस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कड़ा रुख अपनात हुए आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *