लाल किले की प्राचीर से बोले पीएम मोदी – पिछले 4 साल में देश महसूस कर रहा है बदलाव

292 0
  • किया ऐलान – 25 सितंबर को पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती पर शुरू होगी आयुष्‍मान भारत योजना

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को 72वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर ऐतिहासिक लाल किले पर सुबह 7:30 बजे तिरंगा फहराया और लाल किले की प्राचीर से राष्ट्र को संबोधित किया। पीएम मोदी ने ऐलान किया कि 25 सितंबर को पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती पर प्रधानमंत्री जन आरोग्‍य अभियान (आयुष्‍मान भारत योजना) का शुभारंभ होगा। इस योजना से करीब 50 करोड़ लोगों को अच्छा और सस्‍ता इलाज मिलेगा। उन्‍होंने यह भी घोषणा की कि 2022 तक हिंदुस्तान अंतरिक्ष में मानवसहित यान भेजेगा और वहां तिरंगा फहराएगा।  

चार साल में बहुत कुछ बदला

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने 82 मिनट के संबोधन में कहा कि अगर हम साल 2013 की रफ्तार से चलते तो कई काम पूरा करने में दशकों लग जाते, लेकिन चार साल में बहुत कुछ बदला और देश आज बदलाव महसूस कर रहा है। मोदी ने कहा, ‘चार साल में देश बदलाव महसूस कर रहा है। आकाश वही है पृथ्वी वही है, लोग, दफ्तर सब कुछ पहले जैसा है लेकिन अब देश बदल रहा है। उन्होंने कहा कि देश की अपेक्षाएं और आवश्यकताएं बहुत हैं, उन्हें पूरा करने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों को निरंतर प्रयास करना जरूरी है।’

देश बनाने में जुटे हैं देशवासी

पीएम मोदी ने कहा, ‘2014 से अब तक मैं अनुभव कर रहा हूं कि सवा सौ करोड़ देशवासी सिर्फ सरकार बनाकर रुके नहीं, वो देश बनाने में जुटे हैं। आज हर भारतीय इस बात पर गर्व कर रहा है कि हम विश्व की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हैं।’ तमिल कवि सुब्रमण्यम भारती की कविता को याद करते हुए उन्होंने कहा, ‘भारत न सिर्फ एक महान राष्ट्र के रूप में उभरेगा, बल्कि दूसरों को भी प्रेरणा देगा। हम चाहते हैं कि दुनिया में भारत की साख और धाक दोनों हो।’

सरकार की उपलब्धियां गिनाईं

पीएम ने सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा, ‘हमने जीएसटी लागू किया, हमने ओबीसी को संवैधानिक दर्जा दिया, हमने दुश्मनों के घर में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक कर उनके दांत खट्टे किए। आज ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस में अच्छी रैंकिंग पर पहुंचे हैं। हर कोई आज भारत की रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म नीति की तारीफ कर रहा है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने बेनामी संपत्ति को जब्त करना, वन रैंक वन पेंशन जैसे महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं।’ मोदी ने कहा कि देश में अभी तक 13 करोड़ रुपये मुद्रा योजना में लोन दिए जा चुके हैं। इनमें 4 करोड़ वो लोग हैं जिन्होंने कभी पहले लोन नहीं लिया था।

भारत को अपने वैज्ञानिकों पर नाज

अंतरिक्ष की दुनिया में भारत के वर्चस्व की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत को अपने वैज्ञानिकों पर नाज है। उन्होंने घोषणा की कि साल 2022 यानी आजादी के 75वें वर्ष में या उसके पहले संभव हुआ तो भारत का कोई भी बेटा या बेटी अंतरिक्ष में तिरंगा लेकर जाएगा।

कृषि को आधुनिक बनाना समय की मांग

‘बीज से बाजार तक’ का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘हम कृषि क्षेत्र में कई सुधार लेकर आए हैं। हमारी सरकार का लक्ष्य है कि 2022 तक किसानों की इनकम डबल की जाए। कृषि को आधुनिक बनाना समय की मांग है। हम कृषि का आधुनिकीकरण करना चाहते हैं। आज सोलर फार्मिंग, ब्लू रेव्ल्यूशन, आर्गेनिक फॉर्मिंग जैसे नए क्षेत्रों में आगे बढ़ने की जरूरत है।’

राक्षसी शक्तियों से देश को मुक्‍त कराना जरूरी

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में देश में बढ़ रहे महिला अपराध का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा – ‘महिला शक्ति को चुनौती देने वाली राक्षसी शक्ति भी पैदा हो रही है। इससे देश को मुक्त बनाना होगा। कानून अपना काम कर रहा है लेकिन इतना ही पर्याप्‍त नहीं है। हमें भी अपने स्तर पर इससे लड़ना होगा।’

तीन तलाक से दिलाएंगे छुटकारा

पीएम मोदी ने कहा कि तीन तलाक की कुरीतियों ने हमारे देश की मुस्लिम बहनों और बेटियों को काफी परेशान किया है। हमने इसको लेकर संसद में इस सत्र में बिल लाने का काम किया, लेकिन कुछ लोग अभी इसे पास नहीं होने दे रहे हैं। लेकिन मैं विश्‍वास दिलाता हूं कि मुस्लिम महिलाओं को इस कुरीति से छुटकारा दिलाकर रहेंगे।’

जम्मू-कश्मीर के विकास को सरकार प्रतिबद्ध

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘जम्मू कश्मीर में लोकतांत्रिक इकाइयों को और मजबूत करने के लिए लंबे समय से टल रहे पंचायत और निकाय चुनाव जल्द कराने की तैयारी चल रही है। जम्मू-कश्मीर के लिए अटल बिहारी वाजपेयी का आह्वान था- इंसानियत, कश्मीरियत, जम्हूरियत। मैंने भी कहा है, जम्मू-कश्मीर की हर समस्या का समाधान गले लगाकर ही किया जा सकता है। हमारी सरकार जम्मू-कश्मीर के सभी क्षेत्रों और सभी वर्गों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है।’

देश अपनी क्षमताओं का पूरा लाभ उठाए

पीएम मोदी ने कहा – ‘मैं बेसब्र हूं, क्योंकि जो देश हमसे आगे निकल चुके हैं, हमें उनसे भी आगे जाना है। मैं बेचैन हूं, हमारे बच्चों के विकास में बाधा बने कुपोषण से देश को मुक्त कराने के लिए। मैं व्याकुल हूं, देश के हर गरीब तक समुचित हेल्‍थ कवर पहुंचाने के लिए, ताकि वो बीमारी से लड़ सके। मैं व्यग्र हूं, अपने नागरिकों की क्‍वालिटी ऑफ लाइफ को सुधारने के लिए। मैं अधीर हूं, क्योंकि हमें ज्ञान-आधारित चौथी औद्योगिक क्रांति की अगुवाई करनी है। मैं आतुर हूं, क्योंकि मैं चाहता हूं कि देश अपनी क्षमताओं और संसाधनों का पूरा लाभ उठाए।’ अपना भाषण खत्म करने से पहले पीएम मोदी ने एक कविता भी सुनाई।

Related Post

सभी जातियों को आर्थिक आधार पर आरक्षण देने की तैयारी में मोदी सरकार !

Posted by - July 26, 2018 0
नई दिल्ली। इन दिनों आरक्षण की मांग को लेकर महाराष्‍ट्र झुलस रहा है। वहां मराठा आरक्षण की लड़ाई उग्र होती जा…

पूरी तौर पर संतुष्ट होने के लिए हर बार महिला को चाहिए होता है इतनी देर SEX

Posted by - September 28, 2018 0
लंदन। सेक्स एक प्राकृतिक क्रिया है, लेकिन दुनिया के हर हिस्से में ऐसी महिलाएं कम ही हैं, जिन्हें उनके पार्टनर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *