आइए जानें, कहां और कैसे देख सकते हैं साल का आखिरी सूर्यग्रहण

106 0

लखनऊ। इस साल का आखिरी सूर्यग्रहण शनिवार यानी 11 अगस्त को पड़ रहा है। ये इस साल का आखिरी और तीसरा सूर्य ग्रहण है। इस बार का सूर्य ग्रहण धरती के उत्तरी गोलार्द्ध में दिखाई देगा। भारत के लोग इस सूर्य ग्रहण को नहीं देख पाएंगे। इसे उत्‍तरी अमेरिका, उत्‍तर पश्चिमी एशिया, साउथ कोरिया, मास्को, चीन जैसे कई देशों के लोग देख पाएंगे।

सूर्य ग्रहण को देखना कितना सुरक्षित ?

सूर्य ग्रहण चाहे कैसा भी हो आंशिक या पूर्ण, उसे खुली या नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए। हालांकि सूर्य ग्रहण को देखने के लिए बाजार में कई तरह के चश्‍मे उपलब्‍ध हैं। इन चश्‍मों का इस्‍तेमाल कर आप अपनी आंखों को नुकसान पहुंचाए बिना इस खगोलीय घटना के साक्षी बन सकते हैं।

11 अगस्त को पड़ेगा इस साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, जानिए क्‍या होगा खास

सूर्य ग्रहण देखने में बरतें ये सावधानियां

  • सूर्य ग्रहण कभी भी नंगी आंखों से सीधे न देखें। इससे आपकी आंखें खराब हो सकती हैं।
  • अगर आप नजर के चश्मे का इस्तेमाल करते हैं तो भी उसके ऊपर सोलर फिल्टर या इकलिप्स ग्लास जरूर पहनें।
  • अनफिल्टर्ड कैमरे से कभी भी सूर्यग्रहण की तस्वीरें न लें और न ही ऐसे किसी दूसरे डिवाइस का इस्‍तेमाल करें।
  • अगर आपके पास आंखों को बचाने के लिए कुछ भी न हो तो सूर्यग्रहण के दौरान सूर्य की ओर पीठ करके चलें।
  • सूर्य ग्रहण के दौरान सूरज को पिनहोल, टेलीस्कोप या फिर दूरबीन से भी ना देखें।
  • आपके नॉर्मल चश्मे या गॉगल्स आंखों को अल्ट्रावॉयलेट रेज से नहीं बचा सकते, इसलिए अपने ग्लासेस से सूर्य ग्रहण देखने का प्रयास न करें।
  • बहुत से लोग सोलर फिल्टर लगाकर कैमरे से तस्वीरें खींचते हैं। इसका भी आंखों पर घातक असर होता है। दरअसल कैमरे के लेंस और सोलर फिल्टर मिलकर सूर्य की किरणों को और तीव्र बना देते हैं, जो हमारी आंखों को नुकसान पहुंचाती हैं।
  • सूर्य ग्रहण देखने के लिए एक जगह सीधे खड़े हो जाएं और आंखों को चश्मा या सोलर व्यूवर से जरूर ढक लें। सूर्य से नजर हटाने के बाद ही सोलर फिल्टर/व्यूवर को अपनी आंखों से हटाएं। सोलर फिल्टर वाले चश्मों को सोलर-व्युइंग ग्लासेस, पर्सनल सोलर फिल्टर्स या आइक्लिप्स ग्लासेस भी कहते हैं।

Related Post

प्रतियोगिता से लौट रहे 5 पहलवानों की सड़क हादसे में मौत

Posted by - January 13, 2018 0
महाराष्ट्र के सांगली जिले में शुक्रवार देर रात हुआ हादसा, पांच अन्‍य घायल मुंबई। महाराष्ट्र के सांगली जिले में शुक्रवार…

भारत ने किया अग्नि-1(ए) बैलेस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण

Posted by - February 6, 2018 0
स्वदेशी तकनीक से बनी है यह बैलेस्टिक मिसाइल, मारक क्षमता 700 किलोमीटर भुवनेश्‍वर। भारत ने परमाणु क्षमता से लैस स्वदेशी अग्नि-1…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *